आम आदमी पार्टी के प्रदेश सह संयोजक आशुतोष पांडेय ने प्रसाशन से व्यापारियों के हित मांगा सहयोग।
May 25th, 2020 | Post by :- | 209 Views

कोंडागांव / अमरेश कुमार झा

असर :- व्यापार के साथ आय का स्त्रोत हो गया बंद, छोटे दुकानदारों के लिए हुआ परिवार चलाना मुश्किल

कोरोना संकट से निपटने के लिए सरकार के द्वारा कड़े निर्णय लिये जा रहे हैं। मौजूदा हालत को देखते हुए यह निर्णय जरुरी भी है क्योंकि कोरोना वायरस का संक्रमण फैला तो स्थिति भयावह हो जाएगी। कोरोना की जंग में जीत के लिए लोग घर में रहने तैयार भी है, पर मुश्किल यह है कि इस दौरान घर कैसे चलाया जाए। निम्न वर्ग के लिए सरकार ने राहत का पिटारा खोल दिया है, उच्च वर्ग के पास पर्याप्त साधन है, परेशानी निम्न मध्यम वर्गीय परिवारों के लिए खड़ी हो गयी है।

 file photo

 

इसमें अधिकांश छोटे दुकान शामिल हैं। जो रोजाना दुकानदारी कर कुछ आय अर्जित करते है जिससे उनका परिवार चल पाता है। लॉकडाउन में किसी तरह परिवार के लिए राशन का इंतजाम कर लिया पर अब जमा पूंजी भी खत्म हो गई है। चर्चा में व्यापारियों ने कहा कि छोटे दुकानदारों की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं रहती है कि दुकान को बंद कर आसानी से घर चला सके। कोरोना संकट से निपटने सरकार के हर फैसले में व्यापारी साथ देते है, पर सरकार जिस तरह अन्य वर्ग के लोगो को राहत पहुंचाने घोषणा करती है।

उसी प्रकार व्यापारी वर्ग की भी सुध लिया जाना चाहिए, छोटे व्यापारियों के परिवारों को भी जिंदा रहने के लिए भोजन की आवश्यकता होता है इस बात को सरकार को समझते हुए राहत प्रदान करने की मांग की जा रही है। लॉकडाउन में अनिवार्य सेवा के तहत व्यापारियों को शर्त के अनुसार प्रतिष्ठान को खोलने की अनुमति है। जिसमें समय बढ़ोतरी की मांग की है।

आम आदमी पार्टी के प्रदेश सह सयोंजक आशुतोष पांडेय ने व्यापारियों के पक्ष में जिला प्रशासन से दुकान खुलने के समय को बढ़ाने की पहल की है

आम आदमी पार्टी के सहसंयोजक आशुतोष पांडे ने व्यापारियों के हित में प्रसाशन से दुकानों के समय सीमा के दायरे में रख कर जो अनुमति प्रदान की गई है उसमे संसोधन कर दुकान खोलने की अवधि को शाम 6 बजे तक बढ़ाने की मांग की गई है आज जब गर्मी अपने चरम पर है और धूप में लोगों को अपने घर से निकलने में कठनाई हो रही है तो समय के बढ़ने से जनता को राहत मिल सकेगी।

लॉकडाउन बढ़ने के साथ ही व्यापारियों की चिंता भी बढ़ गई है। इस स्थिति से उभरने के लिए शासन से राहत पैकेज देने की मांग की जा रही है। चर्चा में कुछ व्यापारियों ने कहा कि लॉकडाउन के चलते व्यापार चौपट हो गया है, अब इसे वापस पटरी पर लाने के लिए सरकार एवं जिला प्रसाशन को मदद करनी चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।