शिक्षक होता है देश का निर्माता : शर्मा, पहला कदम फाउंडेशन ने शिक्षकों को किया सम्मानित
September 5th, 2019 | Post by :- | 251 Views

जींद, लोकहित एक्सप्रेस, (अनिल सैनी) । पहला कदम फाउंडेशन द्वारा शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इस अवसर पर पहला कदम फाउंडेशन द्वारा 50 शिक्षकों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पर सेवानिवृत्त कमांडेंट रमाकांत शर्मा तथा विशेष अतिथि के तौर पर सुभाष ढिगाना मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता रमेश चंद्र शास्त्री ने की। इस अवसर पर शिक्षकों के सम्मान में शिक्षकों ने स्वागत गीत गाकर कार्यक्रम की शुरूआत की।

मुख्यातिथि रमाकांत शर्मा ने अपने सम्बोधन में कहा कि शिक्षक देश का निर्माता है। मुझे आज अपना बचपन याद आ रहा है कि उन अध्यापकों की बदौलत मैं आज इतने बड़े पद को हासिल कर सका हूं। अब सेवानिवृत्ति के बाद बच्चों के लिए कुछ न कुछ करने का मन है ताकि अपने गुरुजनों के कर्ज को अदा कर सकूं। रमेश चंद्र शास्त्री ने कहा कि पहला कदम फाउंडेशन का शिक्षकों को सम्मानित करना सरहनीय कदम है। यह संस्था शिक्षा व समाज सेवा के क्षेत्र में अच्छा काम कर रही है। इस तरह के आयोजन से अध्यापकों को प्रोत्साहन मिलता है। सुभाष ढिगाना ने कहा कि शिक्षक चाहे तो कुछ भी कर सकता है। शिक्षक कुम्भकार की तरह होता है। जिस तरह से कुम्भकमार कच्ची मिट्टी का आकार देकर एक कीमती वस्तु तैयार करता है ठीक उसी प्रकार शिक्षक भी बच्चों को अच्छी शिक्षा देकर एक योग्य नागरिक तैयार करने का काम करता है। पहला कदम फाउंडेशन के राष्ट्रीयाध्यक्ष राजेश वशिष्ठ ने कहा कि उनकी संस्था समाज में अच्छा कार्य करने वालों को प्रोत्साहित करने का काम कर रही है ताकि अच्छे लोगों को एक प्लेटफार्म देकर उन्हें आगे बढ़ा सके। शिक्षक दिवस पर शिक्षकों का सम्मान कर संस्था खुद को गौरवांवित महसूस कर रही है। डीएवी पुलिस पब्लिक स्कूल के प्राचार्य राजेश दूहन ने कार्यक्रम के सफल आयोजन व कार्यक्रम में मौजूद शिक्षकों का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर फाउंडेशन ने समाज में अच्छा कार्य करने वाले 50 अध्यापकों को सम्मानित किया।

* “लोकहित एक्सप्रैस” में पत्रकार बनने के लिए सम्पर्क करें।

 

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।