लोगों ने जजपा जिलाध्यक्ष को हिमाचल एंट्री की समस्या से करवाया अवगत
May 24th, 2020 | Post by :- | 97 Views

कालका (हरपाल सिंह) :

शनिवार को जजपा जिलाध्यक्ष (ग्रा.) भाग सिंह दमदमा ने कालका विधानसभा के हरियाणा-हिमाचल सीमा पर बसे गांव का दौरा किया तथा स्थानीय लोगों से मुलाकात की। इस अवसर पर लोगों ने उन्हें हिमाचल में एंट्री से संबंधित समस्या के बारे में बताया। इस दौरान लोगों ने दमदमा को बताया कि उनके रोजगार का मुख्य साधन हिमाचल के उद्योगों में नौकरी या हिमाचल के औद्योगिक क्षेत्रों में दुकानदारी आदि करना है। परंतु देश में चल रहे कोरोना के प्रकोप के चलते हिमाचल द्वारा अपनी सीमाओं से अन्य राज्यों के लोगों को प्रतिदिन आवाजाही नहीं करने दी जा रही, जिससे उनके काम-धंधे पूरी तरह से बंद हो चुके हैं। लोगों ने कहा कि हरियाणा के ब्लॉक पिंजौर में पिछले काफी समय से कोरोना का कोई पॉजीटिव केस नहीं आया, परंतु बावजूद इसके हिमाचल में यहां के लोगों को आने-जाने नहीं दिया जा रहा। लोगों ने बताया कि हिमाचल सरकार बॉर्डर से आवाजाही को लेकर दोहरा मापदंड अपना रही है। हिमाचल के औद्योगिक क्षेत्रों से प्रतिदिन भारी संख्या में ट्रक हरियाणा से होते हुए देश के विभिन्न हिस्सों में जा रहे हैं तथा खाली होकर वापिस हिमाचल में आ रहे हैं। लोगों ने कहा कि इन ट्रकों के चालकों तथा परिचालकों से भी कोरोना फैल सकता है, परंतु इन्हें नहीं रोका जा रहा। जबकि हरियाणा के निवासियों को हिमाचल में प्रवेश करने से रोककर बेरोजगारी की कगार पर पहुंचा दिया है। लोगों ने दमदमा से मांग की कि वे इस समस्या हरियाणा सरकार तक पहुंचाएं ताकि जल्द से जल्द से इस समस्या का समाधान हो जाए। दमदमा ने तुरंत इस विषय पर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री से बात की। दमदमा ने बताया कि आगामी मंगलवार को क्षेत्र के लोगों के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ उपमुख्यमंत्री से मुलाकात करेंगे। दमदमा ने लोगों को आश्वासन दिया कि वे उनकी समस्या का समाधान करवाने की पूरी कोशिश करेंगे। इस अवसर पर निर्मल नानकपुर, सुखदेव सिंह सुक्खी टिब्बी, प्रदीप, प्रकाश नवांनगर, गोगी पंच मढ़ांवाला, गुरबक्श मढ़ांवाला, महेश चंदेल, सतीश बिंदल, बलवीर सिंह, लाडी, रविकांत, राकेश कालू, अमरीक सिंह सहित अन्य मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।