श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर श्री बालमुकुन्दाचार्य जी महाराज ने कोरोना से निपटने के लिए जनता को संदेश देते हुए जनता के लिए किए कुछ नेक कार्य
May 24th, 2020 | Post by :- | 84 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । कहा गया है कि हमारा भारत देश जिसे भारत वर्ष के नाम से भी जाना जाता है यह ऋषि-मुनियों और अवतारों की भूमि है जो अपने आप मे एक रहस्यमय देश है। यदि धर्म कहीं है तो सिर्फ यहीं है। यदि संत कहीं हैं तो सिर्फ यहीं हैं। माना कि आजकल धर्म, अधर्म की राह पर चल पड़ा है। लेकिन फिर भी इस पवित्र भूमि पर बड़े बड़े ऋषि मुनियों ने जन्म लिया है। उनमे से कई महान ऋषियों व साधु संतों को उपाधियाँ भी प्रदान की गई है।(ऐसी ही एक उपाधि होती हैं महामंडलेश्वर की) कहा जाता है की सनातन धर्म में ऋषि मुनियों के अखाड़ों का बहुत महत्व है और इन अखाड़ों में ही महामंडलेश्वर बनाये जाते हैं। ऐसा व्यक्ति जो विद्धान होता है,उसे ही इस उपाधि से अलंकृत किया जाता है।
*अब जानिए आप महामंडलेश्वर का अर्थ:
महामंडलेश्वर का अर्थ है विद्वानों का एक समूह,जिसका वह नेतृत्व करता है। अखाड़ों के द्वारा महामंडलेश्वर रूपी पद का सृजन किया जाता है। और योग्यता के आधार पर उसका मूल्यांकन होता है। अब हम चर्चा करते है एक ऐसे महामंडलेश्वर आचार्य जी महाराज की जो अपने आप मे एक प्रतिभा के धनी है।
*जिनका नाम है श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर श्री बालमुकुन्दाचार्य जी महाराज*
ये परमादरणीय महाराज वर्तमान समय में झोटवाड़ा के पास स्थित हाथोज धाम में विराजते हैं। इनकी महिमा का जितना गुणगान किया जाए उतना कम है फिर भी हम आपको बताते हैं कि जयपुर में झोटवाड़ा क्षेत्र के पास हाथोज धाम में प्राचीन दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर के महंत महामंडलेश्वर श्री श्री 1008 श्री बालमुकुंदाचार्य जी महाराज के सानिध्य में हाथोज धाम में दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर का विकास निरंतर और निरंतर चल रहा है। यहां पर श्रद्धालुओं का शनिवार व मंगलवार को भारी संख्या में तांता लगा रहता है। यहां दूर-दूर से श्रद्धालु पूजा-अर्चना करने आते हैं यहां की मान्यता है कि यहां सभी प्रकार की मनोकामनाऐं पूर्ण होती है। श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर महाराज श्री बालमुकुंदाचार्य जी सरल स्वभाव व दया भावना के धनी है। यहां पर जो भी श्रद्धालु आते हैं उनमें चाहे बड़ा हो बच्चा हो बूढ़ा या कोई नेता सभी से सहज भाव से बात करते हैं व उनकी समस्या सुनते हैं और उनका समाधान करने की कोशिश भी करते हैं चाहे वह आम दिन हो या कोरोना जैसी वैश्विक महामारी। देखने मे आया है कि कोरोना महामारी में उनका योगदान सराहनीय रहा है इस महामारी में हर रोज श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर बालमुकुंदाचार्य जी महाराज ग्यारह सौ आदमियों के लिए भोजन व सूखी सामग्री का वितरण करवा रहे हैं व आम जनता को कोई परेशानी है तो उनका भी समाधान स्वंय अपने स्तर पर कर रहे हैं। हृदय सम्राट बहुमुखी प्रतिभा के धनी श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर श्री बालमुकुंदाचार्य महाराज ने चैनलों के माध्यम से सरकार से निवेदन किया है कि मंदिरों व आम लोगों की बिजली का 3 महीने का बिल माफ किए जाए ताकि जनता को राहत मिल सके और कुछ हद तक मदद मिल सके। वही सरकार को चैनलों के माध्यम से यह भी कहा कि गौशालाओं में चारा व पानी की व्यवस्था भी की जाए। चाहे गौशाला रजिस्टर हो या न हो लेकिन गोवंश को बचाया जा सके गौ माता की सेवा ही परम धर्म है। इस कोरोना महामारी में बालमुकुंदाचार्य जी महाराज जैसे संतो का योगदान भूलाया नहीं जाना चाहिए। उन्होंने मंदिरों के सभी पुजारियों के लिए भी पूजा का सामान व भोजन के लिए भोजन की भी व्यवस्था कर रखी है। इस कोरोना महामारी से निजात पाने के लिए श्री बालमुकुंदाचार्य जी महाराज ने भगवान से प्रार्थना करते हुए युवाओं को संदेश दिया है कि सभी युवा वर्ग आध्यात्मिक विज्ञान की ओर बढ़े पूजा पाठ करें जिससे भारत से ही नहीं बल्कि पूरे विश्व से इस महामारी का खात्मा हो और सभी तरक्की करें। बालमुकुंदाचार्य जी महाराज ने पत्रकारों के लिए भी सम्मान पत्र व सम्मान में अन्य चीजों का सहयोग देकर पत्रकारिता के महत्व से लोगों को अवगत कराया और कहा है कि इस महामारी में पत्रकार चाहे छोटा हो या बड़ा हो सभी ने इस महामारी में रात दिन जनता के बीच में जाकर उनकी समस्याएं सुनकर प्रशासन तक पहुंचाने का काम किया है पत्रकार ही है जो रात दिन खबरें जनता तक पहुंचा रहे है। महामंडलेश्वर श्री बालमुकुंदाचार्य जी महाराज हमेशा से ही सरल स्वभाव के हैं। उन्होंने कहा है कि आगे भी लोगों की मदद करते रहना ही परम पिता परमात्मा की सेवा करना है।
*कोरोना वैश्विक महामारी में भी जनता की भलाई के लिए महाराज जी द्वारा किये गए कुछ कार्य:
हिंदू वाहिनी सेना राजस्थान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा संचालित राजस्थान के प्रदेश प्रभारी अध्यक्ष महासचिव अपनी टीम के साथ आज हाथोज धाम पधारे। राजस्थान हिंदू वाहिनी सेना के संरक्षक स्वामी श्री बालमुकुंदाचार्य जी महाराज ने नवनियुक्त कार्यकारिणी को शपथ दिलाई व और दक्षिण मुखी बालाजी महाराज का चित्र भेंट भी स्वरूप दिया।
*श्री बालाजी जन कल्याण सेवा ट्रस्ट हाथोज धाम के द्वारा स्वामी बालमुकुंदाचार्य जी महाराज के सानिध्य में आज से 1100 मंदिरों में ठाकुर जी की पूजा सामग्री एवं ठाकुर जी की भोग सेवा एवं दक्षिणा पुजारियों को देकर इस कार्य के अभियान का स्वयं बालमुकुंद आचार्य जी महाराज द्वारा शुभारंभ किया गया। इस कार्य की शुरुआत में आज स्वामी श्री बालमुकुंदाचार्य जी के साथ बाई जी के मंदिर महंत पुरुषोत्तम भारती एवं श्री बालाजी जन कल्याण सेवा ट्रस्ट के ट्रस्टी गण, कोषाध्यक्ष दिनेश मित्तल साथ में सहयोगी रहे। इस कार्य का उद्देश्य है की भगवानों की लाॅक डाउन में मंदिर बंद होने से पूजा सेवा में कोई विघ्न बाधा ना आए निरंतर भगवान की सेवा पूजा होती रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।