प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित उनके घरों तक पहुचाने के लिये जिला प्रशासन द्वारा बस व रेल की गई उचित व्यवस्था।
May 23rd, 2020 | Post by :- | 54 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। पुलिस अधीक्षक करनाल सुरेंद्र सिंह भौरिया ने प्रेस नोट के माध्यम से बताया कि जैसा कि आप सभी को विदित है कि कोरोना महामारी के कारण के कारण पूरे देश में लॉकडाउन का चौथा चरण 31 मई 2020 तक लागू किया गया है। लॉकडाउन होेने के कारण पूरे देश में प्रवासी मजदूरों द्वारा अपने गृह राज्यों के लिये पलायन किया जा रहा है।

जिस कारण प्रवासी मजदूरों के पलायन को जिला प्रशासन व सरकार द्वारा गंभीरता से लिया गया जा रहा है। प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्यों या जिलों में पहुचाने के लिये जिला प्रशासन व राज्य सरकार द्वारा बस व रेल की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। ताकि किसी भी प्रवासी मजदूर को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना का ना करना पडे़ और प्रत्येक मजदूर अपने घर पर सुरक्षित पहुंच सके।

सुरेंद्र सिंह भौरिया ने बताया कि प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित उनके घरों तक पहुचाने के लिये जिला प्रशासन करनाल द्वारा बस व रेल की उचित सुविधा की गई है। जिला प्रशासन करनाल द्वारा आज दिनांक 23 मई 2020 को 1638 प्रवासी मजदूरों को उनके घरों के लिये रवाना किया गया।

इन प्रवासी मजदूरों को पहले बस के द्वारा अंबाला रेलवे स्टेशन तक पहुंचाया गया। फिर अंबाला से रेल के द्वारा उन्हे बिहार के लिये रवाना किया गया। इसके अलावा दिनांक 20 मई 2020 को कुल 1246 प्रवासी मजदूरों को करनाल से अंबाला पहुंचाने के बाद अंबाला रेलवे स्टेशन से जिला कटिहार बिहार के लिये रवाना किया गया।

जिला प्रशासन करनाल द्वारा प्रवासी मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिये रोजाना औसतन 20/25 बसों को रवाना किया जाता है। ताकि प्रत्येक प्रवासी मजदूर सुरक्षित अपने घरों तक पहुंच सकें। देश के उत्तर-पूर्व राज्यों असम, नागालैण्ड, मणिपुर, मेघालय इत्यादि राज्यों के मजदूरों को भी बस व रेल का उचित प्रबंध करके उनके राज्यों में भेजा जा चुका है।

जिला करनाल से अन्य राज्यों जैसे राजस्थान, मध्यप्रदेश, जम्मू-कष्मीर व उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूरों को भी उनके राज्यों तक पहुचाया जा रहा है। सुरेंद्र सिह भौरिया ने प्रवासी मजदूरों से अपील करते हुये कहा कि कोई भी मजदूर पैदल ना चले।

जो मजदूर जहां है वही पर रूक जायें। उनके लिये प्रत्येक जिलों में अलग-2 जगहों पर रूकने के लिये सैल्टर होम व खाने-पीने का उचित प्रबंध किया गया है। प्रत्येक प्रवासी मजदूर को चाहे वह कहीं पर भी है उनको वही से बस व रेल के माध्यम से उनके गृह जिलों व राज्यों तक पहुंचाया जायेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।