एनएचएम कर्मचारियों ने सीएम को लिखा पत्र
May 23rd, 2020 | Post by :- | 90 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । एनएचएम कर्मचारी संघ हरियाणा ने प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को पत्र लिखा है ।एनएचएम संघ हरियाणा ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में मांग की है कि उनको कैशलेस मेडिकल योजना का लाभ तथा एसआई सुविधा का लाभ अभी तक नहीं मिल रहा था । लिहाजा रिवाइज की जा रही पॉलिसी में एनएचएम कर्मचारियों को यह लाभ दिए जाएं। उक्त वक्तव्य एनएचएम कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेश अध्यक्ष रिहान रजा ने पत्रकार से खास बातचीत के दौरान कहे । एनएचएम प्रदेशाध्यक्ष रजा ने कहा कि प्रदेश भर में 13500 कर्मचारी हैं , जो डॉक्टरों के साथ मिलकर स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए जी जान से जुटे हुए हैं । उन्होंने कहा कि अभी तक एनएचएम कर्मचारियों को ओपीडी खर्च के लिए प्रतिमाह 1000 रुपए स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिए जा रहे थे , जबकि इंडोर तथा टेस्ट इत्यादि की सुविधा उन्हें नहीं मिल रही थी । रिहान रजा ने कहा की प्रदेश  सरकार ने कर्मचारियों से सुझाव मांगे थे , जिसकी एवज में उन्होंने प्रदेश सरकार को यह सुझाव देते हुए आग्रह किया है कि एनएचएम कर्मचारियों को आयुष्मान भारत हरियाणा हेल्थ प्रोटेक्शन अभियान के अंतर्गत शामिल किया जाए । उन्होंने कहा कि अभी तक कर्मचारी कैशलेस तथा ईएसआई दोनों ही सुविधाओं से महरूम थे । उन्होंने कहा कि अब एनएचएम कर्मचारियों को नियमित कर्मचारियों की तरह सरकार ने मानने का निर्णय ले लिया है । लिहाजा एनएचएम कर्मचारियों को ईएसआई तथा कैशलेस सुविधा का लाभ मिलना चाहिए । रजा ने कहा कि उन्हें यकीन ही नहीं बल्कि पूरा भरोसा है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर एनएचएम कर्मचारियों की इस मांग को अवश्य पूरा करेंगे । आपको बता दें कि एनएचएम कर्मचारी संघ हरियाणा ने कोरोना महामारी के दौरान बढ़े हुए वेतन को लेने से इंकार कर दिया था। जिसकी मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भी जमकर प्रशंसा की थी । इसके अलावा एनएचएम कर्मचारियों ने ना केवल गरीब बेसहारा लोगों की कोरोना काल में मदद की बल्कि करीब सप्ताह भर से अधिक समय तक ब्लड दान किया ।प्रदेश भर में तकरीबन 2000 यूनिट के करीब रक्तदान करने सहित कोरोना काल में एनएचएम कर्मचारियों ने दिन – रात मेहनत की। जिसकी वजह से कर्मचारियों को हरियाणा सरकार से मांग मानने का पूरा भरोसा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।