1600 प्रवासी श्रमिको को लेकर अम्बाला छावनी के रेलवे स्टेशन से विशेष ट्रेन कटिहार के लिए रवाना
May 22nd, 2020 | Post by :- | 69 Views

अम्बाला, ( सुखविन्दर सिंह )  प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह राज्य भेजने की श्रृंखला में आज शुक्रवार को 1600 प्रवासी श्रमिकों को लेकर विशेष ट्रेन कटिहार के लिए रवाना की गई। ट्रेन में श्रमिकों के साथ &0 ब”ो भी थे। ब”ाों को डी.सी. अशोक कुमार शर्मा की अगुवाई में जिला प्रशासन की टीम ने खिलौने, बिस्कुट के पैकेट, खिलौना गाड़ी इत्यादि देकर अभिभावकों का हौंसला बढ़ाया। अम्बाला छावनी से कटिहार के लिए ट्रेन करीब 2 बजे रवाना हुई। ट्रेन में बैठे श्रमिकों के चेहरे पर खुशी देखते ही नजर आ रही थी। श्रमिकों ने ट्रेन चलते ही भारत माता की जय, वन्दे मातरम, कोरोना को हराना है, भारत से भगाना है, के गगनचुम्बी नारे लगाए और खूब तालियां बजाई। प्लेटफार्म पर खड़े अधिकारियों से भी रहा न गया, उन्होंने भी श्रमिकों का हौंसला बढ़ाने के लिए भारत माता की जय के नारे लगाए और तालियां बजाकर उनका हौंसला बढ़ाया। 
इस संदर्भ में मौके पर उपस्थित जब डी.सी. अशोक कुमार से बात की गई तो उन्होंने बताया कि  इस ट्रेन में कटिहार जिले के साथ-साथ अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, माधोपुर, सहरसा व सुपौल के श्रमिक शामिल हैं। जिला प्रशासन की ओर से प्रवासी श्रमिको को फूड पेकैट, पानी की बोतल, मास्क व सैनिटाईजर भी उपलब्ध करवाया गया। उन्होनें बताया कि इन प्रवासी श्रमिकों में अम्बाला जिलें के 875, पंचकूला जिला के 92, यमुनानगर से 450, कुरुक्षेत्र से 18& प्रवासी शामिल हैं। प्रवासी मजदूरों के साथ &0 ब‘चे भी थे। उन्होनें यह भी बताया कि इन प्रवासी श्रमिकों को निशुल्क ट्रेन की टिकट के साथ-साथ अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई गई है, ताकि रास्तें में प्रवासी श्रमिकों को किसी परेशानी का सामना न करना पड़ें। ट्रेन की प्रत्येक बोगी में प्रवासी श्रमिक सामाजिक दूरी के साथ बिठाएं गए थे। इससे पहले स्टेशन पर बसों के माध्यम से पहुंचे इन श्रमिकों के स्वास्थ्य की जांच करते हुए थर्मल स्क्रीनिंग की गई और अन्य निर्धारित मापदण्डों की पालना भी की गई। 
उपायुक्त ने आगे बताया कि इससे पहले भी पांच स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से प्रवासी श्रमिकों को भागलपुर, कटिहार, मु’जफरपुर सहित अन्य स्थानों पर भेजने का काम किया गया है। जिला के शैल्टर होम्ज में अब बहुत कम श्रमिक बचे हैं, जिनको अलगे सप्ताह तक उनके घर भेज दिया जाएगा। बसों द्वारा भी सम्बन्धित क्षेत्र के श्रमिकों को उनके गंतव्य स्थान पर पंहुचाया गया है। इस मौके पर एमडी शुगरफैड एवं नोडल अधिकारी कैप्टन शक्ति सिंह, इस्टेट ऑफिसर सतिन्द्र सिवाच, मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी रूखबा, सीआईडी इंस्पैक्टर ओमपाल, डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह, स्टेशन अधीक्षक बी.एस. गिल, रैडक्रास सचिव विजया लक्ष्मी, रैड क्रास से मनोज सैनी सहित रेलवे व पुलिस के अधिकारीगण मौजूद रहे।
अम्बाला में प्रशासन की देखरेख से खुश नजर आए एक श्रमिक पवन ने बताया कि मैं तो पहली बार अम्बाला आया था, किसी फैक्ट्री में काम करता था। मुझे नही पता था कि कोरोना के कारण वापिस जाना पड़ेगा, लेकिन जिला के अधिकारियों ने श्रमिकों को पूरा ख्याल रखा, हमें किसी प्रकार से तंग नही होने दिया। बातचीत के दौरान पवन ने डी.सी. को कहा क जब लॉक डाउन खुल जाएगा, मैं दोबारा अपने साथियों के साथ अम्बाला जरूर आना चाहूंगा। अम्बाला एक अ‘छा इलाका है, यहां के लोग अ‘छे हैं। 
रेलवे स्टेशन पर प्रवासी श्रमिकों की मदद करने के लिए बीजेपी के कईं पदाधिकारी प्रशासन का सहयोग करते नजर आए। उन्होंने भी श्रमिकों को खाने के पैकेट, बिस्कुट, जूस की बोतलें, पानी इत्यादि उपलब्ध करवाया। जिनमें राजीव डिम्पल, अजय बवेजा, आशीष गुलाटी, ललता प्रसाद, दीपक भसीन, मनोज मैनीवाल, विकास बतरा, प्रमोद कुमार लक्की, अजय पराशर, कैलाश मैनीवाल, शैली खन्ना सहित कईं अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।