अधिकारी कर रहे हैं अच्छा काम लेकिन और अच्छा करने की जरूरत:-मुख्यमंत्री मनोहर लाल
May 22nd, 2020 | Post by :- | 48 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा) हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के उपायुक्तों तथा खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रकों से आत्म निर्भर भारत, डीआरटी (डिस्ट्रेस राशन टोकन), गेहूं की लिफ्टिंग, किसानो का भुगतान व प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के विषय पर विस्तारपूर्वक चर्चा करते हुए सभी विषयों पर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।
चंडीगढ़ से वी.सी. की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि देश-प्रदेश अन्न का भंडार है, एक-एक दाने का उचित उपयोग हो, इसके लिए पूरे प्रदेश में डीएफएससीज की टीम बेहतर समन्वय के साथ इस कार्य को करे ताकि कोई भी व्यक्ति भूख से प्रभावित न हो। भूखे व्यक्ति को अन्न उपलब्ध करवाना हमारी प्राथमिक जिम्मेदारी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना पीरियड एक चैलेंज के रूप में है तथा इस दौरान लोगों को राशन उपलब्ध करवाने के लिए भी सामान्य दिनों की भांति अधिक मेहनत करनी पड़ी। उन्होंने कहा कि लोगों को भोजन उपलब्ध हो सके, इसके लिए अस्थाई तौर पर डिस्ट्रेस राशन टोकन का शुभारम्भ किया गया है। इसके तहत पूरे प्रदेश में 4 लाख 866 हजार 124 लोगों को टोकन भी वितरित किए गए हैं। टोकन वितरण के उपरांत निर्धारित मापदंडो के तहत कमेटियों के माध्यम से इसे वितरित भी किया जा रहा है। प्रदेश में लगभग 3 लाख परिवारों को इस टोकन के माध्यम से राशन भी उपलब्ध करवाया जा चुका है। वी.सी. में उन्होंने खरीद की गई गेहूं की लिफ्टिंग व अन्य विषयों पर भी विस्तार से जानकारी हासिल की।
उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने वी.सी. के दौरान मुख्यमंत्री को अवगत करवाया कि अम्बाला जिला में 97 प्रतिशत लिफ्टिंग हो चुकी है तथा 10 मई तक 425 करोड़ रुपये की अदायगी भी किसानों को हो चुकी है। उन्होंने यह भी बताया कि डिस्ट्रेस राशन टोकन के तहत प्रथम चरण में 9304 प्रार्थियों में से 7149 प्रार्थियों को गेहूं व दाल वितरित करने का काम किया गया है तथा 2155 ऐसे प्रार्थी थे, जो निर्धारित मापदंड पूरा नही कर रहे थे एवं ट्रेस नही हुए। उन्होंने यह भी बताया कि दूसरे चरण में 3952 प्रार्थियों में से 1248 प्रार्थियों को वैरीफाई किया जा चुका है

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।