किसानों के बचे हुए धान के पैसे से राष्ट्रीय स्तर पर धूमिल हुई छबि को सुधारने के प्रयास में लगी है कोंग्रेस- उत्तम जायसवाल आम आदमी पार्टी

दीपक वैष्णव– आदमी पार्टी के उत्तम जायसवाल का कहना है कि जिस तरह से कोंग्रेस की सरकार किसानों से किये हुए वादे के मुताबिक 2500/-प्रति कुंटल में धान खरीदी करनी थी पर नही किया इस पर प्रदेश भर के किसानों में कोंग्रेस की भूपेश सरकार के ऊपर सवाल उठे आंदोलन हुए सरकार किसानों के आंदोलन से दबाव में आई फिर अंतर की राशि देने का वादा किया ।

अब वह बचत के राशि को राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत दे रही है वह भी किस्तो में यह गलत है और खूब वाहवाही बटोर रहे है जबकि जमीनी हकीकत कुछ और है ।
घोषणा पत्र में ऐसा कोई जिक्र नही है कि किसानों के धान को वह क़िस्त में लेंगे इस पर सरकार पुनर्विचार करें वह बचत की राशि जल्द ही अगली क़िस्त में दे देवे।

अभी तो केवल पहली किस्त उन्होंने जारी की है और अगली क़िस्त कब आएगी यह देखना है यह राशि एक मुश्त दी जाती तो किसानों के काम आता।
उन्होंने आगे कहा किसानों से किया हुआ उनका यह वादा है जिसे इस कोरोना काल मे शांति पूर्ण तरीके से भी दे सकते थे वे इसके माध्यम से राष्ट्रीय स्तर पर कोंग्रेस की बिगड़ी हुई हालात को, छत्तीसगढ़ से सुधारने की कोशिश कर रहे जिसका कोई लाभ उन्हें नही होगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी को सोचना चाहिए कि इस पर वे ज्यादा प्रचार प्रसार न करे चुकी अभी कोरोना का संकट देशव्यापी है और वे राज्य के बजट को विज्ञापन में खर्च न करें।
किसानों से किया हुआ वादा तो उन्हें पूरा करना ही होगा ।