मेवात के लोगों को मौलाना याहया करीमी का संदेश।
May 21st, 2020 | Post by :- | 53 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । रमजान का पवित्र महीना समाप्त होने वाला है। हम अल्लाह तआला  से दुआ करते हैं कि वे सभी इमान वालों की दुआ और इबादात को क बूल फरमाए। रमजान का मौजूदा महीना सभी मुसलमानों के लिए धैर्य का एक बड़ा परीक्षण साबित हो रहा है, लेकिन इस वैश्विक महामारी के सामने पूरी मुस्लिम उम्मत स्थिर है, और मुसलमानों ने एक संवेदनशील मुस्लिम और जिम्मेदार नागरिक होने का पूरा प्रमाण दिया।

 अब रमजान के आखिरी जुमा और ईद-उल-फितर की नमाज के मुद्दे के कारण और भी बड़ी परीक्षा है। इसके मद्देनजर हमारे व्यापक विचारधारा वाले उलामा और मुफ्तीयों ने अपील जारी की है कि दारुल उलूम देवबंद द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार जुमा की नमाज और ईद-उल-फितर की नमाज अदा की जाए।
  इसलिए, मैं सभी भारतीय मुसलमानों से सामान्य रूप से और मेवात के लोगों से विशेष रूप से अनुरोध करता हूं कि वे  सरकार द्वारा जारी किए गए निर्देशों का पूरा ध्यान रखें, क्योंकि इस परिणाम के बाद आसानियां ही आसानियां है और अगर लोग सरकारी निर्देशों की अनदेखी करते हैं, तो मुझे डर है कि हमें अधिक घरों में बैठना पड़ सकता है।  इसलिए, इन दोनों महत्वपूर्ण मौकों पर, सरकार और दारुल उलूम देवबंद के निर्देशों को ध्यान में रखते हुए, अपने धैर्य का सबूत पेश करें, दोनों नमाज़ यानी जुमा की नमाज़ और ईद की नमाज घर पर ही अदा करें ताकि इस बीमारी से बचा जा सके।  अपील कर्ता:- हजरत मौलाना मुहम्मद याहया करीमी अध्यक्ष जमीयत उलेमा हरियाणा ,पंजाब, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।