अलविदा जुम्मा तथा ईद उल फितर की नमाज को लेकर उलेमा की अपील
May 21st, 2020 | Post by :- | 90 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । रमजान के पवित्र महीने में लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए जिस तरह तीन जुम्मे की नमाज अदा की गई हैं ठीक उसी प्रकार कल शुक्रवार को अलविदा जुम्मा की नमाज भी लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए पढ़नी है । आखिरी जुम्मा को अलविदा जुम्मा इसलिए कहा जाता है कि यह रमजान के महीने में आखिरी जुम्मा होता है और चंद दिन बाद रमजान का पवित्र महीना चांद नजर आते ही समाप्त हो जाता है । उक्त वक्तव्य बड़ा मदरसा नूह के संचालक मुफ्ती जाहिद हुसैन ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहे ।मुफ्ती जाहिद हुसैन ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि केंद्र / राज्य सरकार के अलावा जिला प्रशासन पुलिस / प्रशासन तथा स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों ने कोरोना महामारी के दौरान  लॉकडाउन में जो गाइडलाइन जारी की है । उन्हीं को फॉलो करते हुए हमें अलविदा जुम्मा तथा ईद उल फितर की नमाज पढ़नी है । मुफ्ती जाहिद हुसैन ने कहा कि यह महामारी सिर्फ एक प्रदेश व देश में नहीं बल्कि दुनिया भर में फैली हुई है । इस बीमारी को सोशल डिस्टेंस से ही हराया जा सकता है । लिहाजा इकट्ठे होकर कहीं भी नमाज नहीं पढ़नी है । उन्होंने कहा कि जिन स्थानों पर जुम्मे की नमाज पढ़ी जाती है। उन्हीं स्थानों पर अलविदा जुम्मा तथा ईद उल फितर की नमाज पढ़ी जाएगी । बड़ा मदरसा संचालक मुफ्ती जाहिद हुसैन ने कहा कि मास्क इत्यादि का इस्तेमाल करें , लोग अपने घरों , पार्क , बैठक , मस्जिद इत्यादि में नमाज अदा कर सकते हैं ।लेकिन इस बार ईदगाह में ईद उल फितर की नमाज अदा करने से परहेज करें । हुसैन ने कहा कि इबादत करें और दुआ करें कि इस महामारी से जल्द से जल्द लोगों को छुटकारा मिले । कुल मिलाकर जिले के उलेमाओं ने मेवात जिले के लोगों से ही नहीं बल्कि प्रदेश – देश व दुनिया भर के मुसलमानों से अपील की है की कोरोनावायरस से बचने के लिए शारीरिक दूरी एक दूसरे से जरूर बना कर रखें । उन्होंने यह भी कहा की जिस तरह लोगों ने रमजान के पूरे महीने में जुम्मा की नमाज तथा तराबीह इत्यादि की नमाज में शासन – प्रशासन का सहयोग किया है । उसी तरह अलविदा जुम्मा तथा ईद उल फितर की नमाज के दौरान भी नजर आना चाहिए। कुल मिलाकर उलेमाओं की अपील में साफ है कि इस बार ईदगाह में नमाज नही पढ़ी जाएगी , क्योंकि वहां भीड़ एकत्रित होती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।