*कोरेण्टाईन किये गये लोगो का न कोई व्यवस्था और न ही कोई ध्यान चटाई में सोने में मजबूर*
May 21st, 2020 | Post by :- | 261 Views

कांकेर(टोकेश्वर साहू) -: कोरोना वैश्विक महामारी को लेकर जहाँ पूरा देश गम्भीर है वहीं कांकेर जिले के कुछ स्थानों में इसको लेकर ग्राम पंचायत के जिम्मेदारो की लापरवाही देखते ही बन रही है।
यहाँ बता दे कि ग्राम पंचायत पोटगाँव व ग्राम पंचायत कोकड़ी में बड़ी लापरवाही देखने को मिल रही है जहाँ पर बच्चों को कोरेण्टाईन में रखा गया है वहाँ न तो

किसी की ड्यूटी लगाई गई है और न ही किसी प्रकार की समुचित व्यवस्था की गई है जिससे कोरेण्टाईन में रह रहे बच्चे बेहद परेशान है। इस सम्बन्ध में ग्राम पंचायत पोटगाँव में आंध्रप्रदेश के नैलूर जिला मैनकुर से लौटी युवती व उसके परिजनों ने बताया कि मैं

प्रशासन की मदद से जैसे भी करके कांकेर तक पहुँची किन्तु कांकेर से ग्राम पंचायत पोटगाँव 20 से 25 किमी पहुँचने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ी जिससे जो ग्राम पंचायत से सहयोग मिलनी थी वह नही मिल पाई न ही कोई जिम्मेदार व्यक्ति मुझे लेने पहुँचा जिसके बाद घर से ही अपने भाई को बुलवाकर मुझे गांव पहुँचना पड़ा जिसके कारण मेरे भाई को भी कोरेण्टाईन में रखा गया है यहाँ न तो सोने के किये बिस्तर दिया गया है और न कोई पूछ परख है। अन्य स्थानों से जो मेरे साथ आये थे उन्हें लेने के लिए ग्राम पंचायत के द्वारा व्यवस्था की गई थी किंतु ऐसी कोई भी व्यवस्था ग्राम पंचायत द्वारा नही की गई जिसके चलते मुझे परेशानियों का सामना करना पड़ा। इस सबंध में पोटगाँव ग्राम पंचायत के सरपंच मानेश कुलहरिया से पूछने पर बताया की मुझे इसकी जानकारी शाम 6 बजे मिली पर मैं कांकेर में था जिसके कारण मैं कुछ नही कर पाया यह कहकर पल्ला झाड़ने लगा अब जब गांव के मुखिया ऐसे गैरजिम्मेदाराना जवाब दे तो इसे क्या कहें?
कोकड़ी ग्राम पंचायत में भी युवक को कोरेण्टाईन में किसी भी प्रकार की सुविधा नही मिल पा रही है जिस पर युवक ने उसका तो भोजन पानी भी घर से ही जा रहा है गौर करने की बात यह है कि वह अकेले ही कोरेण्टाईन सेंटर में है जिसके कारण वह परेशान है उसके सोने के लिए मात्र चटाई ही दी गई है जिसके कारण युवक परेशान है।
इस सबंध में जनपद सीईओ यूके पामभोई ने बताया कि ग्राम पंचायत में कोरेण्टाईन सेंटर में रुके सभी के रुकने खाने की व्यवस्था ग्राम पंचायत को करनी है यदि ऐसा है तो यह गलत है इस पर जांच होगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।