प्रसूति के बाद महिला की इलाज के दौरान मौत , नवजात जिंदा

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । जिले के शाह चौखा गांव की महिला ने घर पर ही बच्ची को मंगलवार को जन्म दिया। बच्ची के जन्म देने के बाद महिला का खून का बहाव बंद नहीं हो पाया। महिला को इलाज के लिए अल आफ़िया सामान्य अस्पताल मांडीखेड़ा ले जाया गया , लेकिन इलाज के दौरान महिला ने दम तोड़ दिया । उसकी नवजात बच्ची अभी जिंदा है। लेकिन अब उसे मां का प्यार कभी नहीं मिल पाएगा ।
 जानकारी के मुताबिक हारुनी पत्नी आशिक उम्र करीब 22 वर्ष निवासी शाह चौखा ने घर पर ही बच्ची को जन्म दिया। महिला की पहली डिलीवरी थी। बावजूद उसके उसे किसी सरकारी पीएचसी / सीएचसी पर ले जाने के बजाय घर पर ही दाई की मदद से डिलीवरी करवाई गई । यही चूक महिला की जान पर भारी पड़ गई। मृतक महिला के परिजनों का आरोप है कि उन्होंने एंबुलेंस के लिए फोन किया था ।अगर एंबुलेंस समय पर पहुंच गई होती , तो शायद महिला जीवित होती । कुल मिलाकर हारुनी अब दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह चुकी है ।पुलिस ने महिला के शव को कब्जे में लेकर 174 की कार्रवाई की है। महिला के परिजन महिला का पोस्टमार्टम कराना नहीं चाहते , लेकिन पुलिस मामले में पोस्टमार्टम चाहती है। लिहाजा पुलिस ने अल आफ़िया अस्पताल मांडीखेड़ा में महिला का पोस्टमार्टम कराया । जिसके बाद शव को उसके परिजनों को सौंप दिया गया।