भाजपा के शासन में किसान परेशान: हर्षकुमार
September 5th, 2019 | Post by :- | 103 Views
होडल, (मधुसूदन): पूर्व मंत्री एवं जजपा के राष्ट्रीय महासचिव चौ.हर्ष कुमार ने कहा है कि भाजपा के शाासन में जहां किसानों को सिंचाई और पीने के पानी के लिए दर दर की ठोकरे खाने को विवश होना पड रहा है वहीं लूटपाट,बदमाश तथा आपराधिक वारदातों को अंजाम देने वालों का भी विकास हो रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा सबका साथ सबका विकास के नारे को बुलंद कर जनता को गुमराह कर रही है लेकिन आज प्रदेश में अपराधियों का भी इसी नारे के साथ विकास हो रहा है। आए दिन हो रहीं लूटपाट,चोरी,दुष्कर्म व अन्य आपराधिक वारदातों ने लोगों की नींद उडाकर रख दी है। हर्षकुमार बुधवार को आयोजित कार्यक्रम में ग्रामीणों को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर गांव बांसवा निवासी जसराम ठेकेदार के नेतृत्व में पप्पू मैम्बर, बलराम,विसराम प्रजापत,बुधराम,भीमसिंह,
,खिरबी निवासी गिरधर, पीतम्बर, मोहन सिंह, गिरधारी,
नाहर सिंह, किशन, चतरी, मेघश्याम, अमर सिंह, चंचल, सूका, नंदन, भगत सिंह, बीरबल सहित गांव खिरबी, शेषसाई, भुलवाना, बांसवा, विजयगढ निवासी सैंकडों लोगों ने जजपा में शामिल होने की घोषणा की। जजपा में शामिल हुए सभी ग्रामीणों का चौ.हर्षकुमार ने लडडू खिलाकर स्वागत किया। इस अवसर पर हर्षकुमार ने कहा कि भाजपा के शासन में ग्रामीण बूंद बूंद पानी को तरस रहे हैं। ग्रामीणों को 8-8 सौ रुपए में टैंकरों के सहारे प्यास बुझाने को विवश होना पड रहा है। अस्पतालों में ना तो डाक्टर मिलते हैें और ना ही डाक्टरों की कोई व्यवस्था है। सरकार द्वारा लाखों रुपए खर्च कर बनाए गए पशु अस्पतालों में 10-10 साल बीतने के बाद भी डाक्टरों की व्यवस्था नहीं की गई है। जिसके कारण क्षेत्र के किसानों का पशु पालन से मोह भंग हो चुका है। उन्होंने बताया कि छोटी सी बीमारी का  ईलाज कराने के लिए ग्रामीणों को मथुरा या अन्य जगहों पर पशु चिकित्सकों के  पास ले जाने को मजबूर होना पड रहा है। क्षेत्र में किसान सिंचाई और पीने के पानी के लिए भटकता रहता है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने ड्राईविंग लाईसेंस नहीं होने की स्थिती में भारी भरकर जुर्माना वसूलने का निर्णय लिया है, लेकिन भारी भरकम फीस के कारण अब लाईसेंस बनवाना भी मुशिकल काम हो गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।