लॉक डाउन में नियमों की अवहेलना करने पर सवा लाख से अधिक वाहन किये जब्त -बीएल सोनी
May 19th, 2020 | Post by :- | 130 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के नियमों की अवहेलना कर अकारण घूमते पाये गये 3 लाख 22 हजार वाहनों का एमवी एक्ट के तहत चालान कर 1 लाख 32 हजार वाहनों को जब्त किया जा चुका है और 6 करोड़ रुपये से अधिक जुर्माना वसूल किया जा चुका है।
अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस अपराध बी एल सोनी ने बताया कि मानवीय दृष्टिकोण को देखते हुए पुलिस के जवान सामाजिक सरोकार को निभाकर वचित व्यक्तियो को भोजन सहित अन्य सुविधाए उपलब्ध करा रहे हैं। एडीजी सोनी ने बताया कि प्रदेश में करीब 16 हजार से अधिक लोगों को सीआरपीसी के प्रावधानों के तहत शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया। लॉकडाउन के नियमों के उल्लंघन के करीब 3136 मुकदमे दर्ज कर 6 हजार 318 से अधिक व्यक्तियों के खिलाफ आपदा प्रबंधन,महामारी अधिनियम व आईपीसी की धाराओं में कार्रवाई की गई है। उन्होंने बताया कि कोरोमा वारियर्स पर हमले के मामले में 445 लोगो को संगीन धाराओं में गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। कई मामलों में चालान पेश किया गया। सोशल मीडिया के दुरुपयोग के मामले में राजस्थान पुलिस की टीम लगातार नजर बनाए हुए है। पुलिस ने सोशल मीडिया के दुरुपयोग के मामलों में अब तक 203 मुकदमे दर्ज कर 287 असामाजिक तत्वों के खिलाफ अभियोग दर्ज किया है। अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस अपराध सोनी ने बताया कि काला बाजारी करने वाले लोगो पर भी पुलिस की पैनी नजर है। लॉक डाउन के दौरान काला बाजारी करते पाये गये दुकानदारों के विरुद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत 124 मुकदमे दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। राजस्थान पुलिस द्वारा इन सभी प्रक्रिया में प्रभावी कार्रवाई की जा रही है। राज्य सरकार ने राजस्थान एपेडमिक अध्यादेष के तहत अब तक करीब 22 लाख रूपये का जुर्माना लोगों से वसूल किया गया है। एडीजी सोनी ने आमजन से अपील की है कि वे लॉक डाउन के चौथे चरण के नियमो की पालना करे,मास्क लगाकर बाहर निकले ओर सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करें। एक दूसरे का ध्यान रखें, एक दूसरे का हौसला बढ़ाएं और हमारे डॉक्टर्स व मेडिकल टीम व कोरोना वारियर्स जो हम सब को बचाने में लगे हैं उनका सम्मान करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।