कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन-4 आज से लागू, सभी रूट पर कल 19 मई से बसें चलाई जाएगी : मनोहर लाल
May 18th, 2020 | Post by :- | 155 Views

चंडीगढ, ( महिन्द्र पाल सिंहमार )    ।    हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन-4 आज से लागू किया गया है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन-3 में जिन क्षेत्रों में जितनी छूट थी उनको और बढ़ाया गया है। परिवहन विभाग विशेषतौर पर प्रदेश के अंदर की बस व्यवस्था अथवा प्रदेश से बाहर दूसरे प्रदेशों के साथ जो रूट है, उन सभी रूट पर कल 19 मई से बसें चलाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि एमएचए गाईडलाइन के अनुसार विशेष तौर पर कंटेनमेंट जोन में प्रतिबंध जारी रहेगा। इसके अलावा जो कंटोनमेंट जॉन से अतिरिक्त क्षेत्र है, उन क्षेत्रों को ऑरेज जोन मानकर सभी गैर- प्रतिबंधित गतिविधियां चलाई जाएंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिजली विभाग की आज हुई एक रिव्यू मीटिंग में आने वाले गर्मियों के समय में बिजली की व्यवस्था पर विचार किया गया। इसी संदर्भ में ट्यूवेल कनेक्शन जारी करने का काम शुरू कर दिया है, लगभग 1000 ट्यूवेल कनेक्शन फाइव स्टार मोटर्स के लगवाए जा चुके है। आने वाले 30 जून तक शेष 4000 ऐसे ट्यूवेल कनेक्शन लगाए जाएंगे। इसके बाद नए फाइव स्टार की मोटर्स उपलब्ध होने पर ही नई ट्यूवेल लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि बिजली के बिलों के संबंध में जो कुछ भी त्रुटियां मिली है जिसमें घरेलू बिजली के बिलों में औसत से ज्यादा बिल मिले हैं। उसके लिए विभाग को निर्देश दिए गए हैं वे जल्द से जल्द इसका निपटान करें। उन्होंने कहा कि उपभोक्ता हैल्पलाइन नंबर 1912 पर अपनी शिकायतें दर्ज करवाकर अपने बिलों की त्रुटियां ठीक करवा सकते हैं। उन्होंने कहा कि यदि गलती से किसी उपभोक्ता ने बढ़े हुए बिलों का भुगतान कर दिया है तो उनके अगले बिलों में इसका समायोजन कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि जेल विभाग की ओर से 18 हजार कैदियों में से पिछले दिनों में 6 हजार कैदियों को पैरोल दी गई थी उस 6 हजार कैदियों को पैरोल का समय 6 सप्ताह के बाद अगले 6 सप्ताह के लिए बढ़ा दिया गया है। सभी कैदी 12 सप्ताह के पैरोल के बाद ही वापिस जेल में आएंगे। जेल विभाग के अंतर्गत सभी व्यवस्था ठीक चल रही है। अभी तक कोई भी कैदी कोरोना का मरीज नहीं मिला है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।