पर्यावरण सरंक्षण व पौध रोपण के लिए आगे आएं आमजन : डा. नीना सतपाल राठी
May 18th, 2020 | Post by :- | 96 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
नगर पार्षद डा. नीना सतपाल राठी ने बहादुरगढ़ माइनर के साथ किए पौधे रोपित, कोरोना से बचाव को लेकर भी किया जागरूक
बहादुरगढ़। पर्यावरण की रक्षा व हरियाली को बढ़ावा देने के लिए नगर पार्षद डा. नीना सतपाल राठी ने वार्ड-30 के साथ से होकर निकल रही बहादुरगढ़ माइनर के साथ पौधे रोपित किए। उन्होंने नीम, पीपल, बड की त्रिवेणी लगाकर कोरोना वायरस को भगाने का संकल्प भी किया और आमजन को कोरोना वैश्चिक महामारी से बचाव को लेकर बचाव को लेकर जागरूक भी किया।
नगर पार्षद डा.नीना सतपाल राठी ने कहा कि स्वच्छ पर्यावरण ही जीवन का आधार है। पर्यावरण प्रदूषण जीवन के अस्तित्व पर प्रश्र चिन्ह लगा देते हैं। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के साथ छेड़छाड़ प्रकृति के साथ किए गए अपराध के तुल्य हैं। पर्यावरण का मतलब केवल पेड़ पौधे लगाना नहीं, बल्कि भूमि प्रदूषण, जल प्रदूषण, वायु एवं ध्वनि प्रदूषण आदि से भी पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है। ऐसे में हम सब की नैतिक जिम्मेवारी है कि पर्यावरण की शुद्धता के लिए आगे आना चाहिए और समय-समय पर पेड़ पौधे भी लगाने चाहिए और उनकी उचित देखभाल भी करते रहना चाहिए। डा. नीना सतपाल राठी ने कहा कि आज पूरे विश्व में लोग सुखमय जीवन की परिकल्पना करते हैं। सुख की इसी असीम चाह का भार प्रकृति पर पड़ता है। पर्यावरण विघटन की समस्या आज समूचे विश्व के सामने प्रमुख चुनौती है। जिसका सामना सरकार व जागरूक जनमत द्वारा किया जाना चाहिए। पर्यावरण संरक्षण की जानकारी हर स्तर और हर उम्र के व्यक्ति के लिए आवश्यक हैं। पर्यावरण संरक्षण की चेतना की सार्थकता तभी हो सकती
है, जबकि हम नदियां, पर्वत, पेड़, प्राण, वायु और हमारी धरती को बचा सके। प्रकृति के प्रति प्रेम व आदर की भावना सादगी पूर्ण जीवन पद्धति और वानिकी के प्रति नई चेतना जागृत करना हैं। उन्होंने कहा कि पर्यावरण व भू जल स्तर को बचाने के लिए पौधो को लगाना बेहद जरूरी है। बहादुरगढ़ माइनर के साथ पौधे रोपित करने वालों में उनके साथ अभिप्राय राठी, रोहतास मलिक, रोहित व मोंटी भी रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।