अस्पताल के ICU में मां की हालत गंभीर,बुल्लड़ पहलवान के दरवाजे पर लगी भोजन लेने वालों की कतार
May 18th, 2020 | Post by :- | 186 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
बुल्लड़ पहलवान बोले, जरूरतमंदो व गरीबों की सेवा से मिली दुआओं से मां स्वस्थ होकर घर लोटी
बहादुरगढ़। लॉक डाउन के चलते समाज सेवी बुल्लड पहलवान की ओर से जरुरतमंद लोगों के लिए रोजाना की तरह निःशुल्क भोजन सेवा व  सभी को मास्क भेंट करने का सेवा कार्य रविवार को भी जारी रहा। समाजसेवी बुल्लड पहलवान की नेक कमाई से लॉक डाउन लगने के चलते जरुरतमंद लोगों के लिए की जा रही भोजन सेवा निरन्तर जारी है। बुल्लड़ ने बताया कि जरुरतमंदो के लिए बनाए जाने वाले भोजन को हलवाई या दिहाड़ी के कारीगर की बजाय अखाड़े के आसपास रहने वाले  लोग तैयार करते हैं। आस पास की महिलाएं व पुरुष सभी सेवा भावना के तहत सहयोग करके पहले भोजन बनाते है फिर उस भोजन को वितरण के लिए  पैकट तैयार कर रोजाना एक हजार से ज्यादा जरूरतमंद लोगों को यह भोजन वितरण करते हैं। बुल्लड़ पहलवान ने बताया कि उनके द्वारा जींद हिसार आदि इलाकों से दिल्ली रोहतक रोड से यूपी , बिहार जाने वाले लोगों को रात्रि का ठहराव कराने ओर उन्हें भोजन उपलब्ध करवाने की सेवा व सुविधा भी जारी रही। बुल्लड़ ने बताया कि भोजन बनाने तथा पैक करने व वितरण के कार्य मे  लॉक डाउन के तहत सरकार व प्रशासन द्वारा जारी किए गए नियमों का पूरी तरह से पालन किया जाता है। खाना बनाने में सहयोग कर रही सुनीता, बिरो, कृष्णा, राजबाला आशा, संजो, सुनीता सोनिया, बल्ले, सुखबीर, राजेंद्र फौजी,  जीतू ,सुग्रीव सुखबीर, सेखु, संजय, सुनील, सचिन, शेखर, राकेश, अर्पित, बिट्टू, अमित, राजेश, मनीष, संदीप, सुनील, विपुल, प्रवीण आदि जो खाना बनाने में व्यस्त थे। इन्होंने मौके पर पहुंची पत्रकारों की टीम से रूबरू होते हुए बताया कि समाजसेवी बुल्लड पहलवान की मां भुंला देवी की अचानक तबियत खराब होने के कारण उन्हें छह दिनों से शहर के ब्रह्मशक्ति संजीवनी के आईसीयू में इलाज के लिए दाखिल करवाया गया था। जिनके पेट में दर्द ओर ब्लड प्रेशर लो के कारण हालत गंभीर बनी हुई थी। इसके बावजूद समाजसेवी बुल्लड पहलवान ने हिम्मत नहीं हारी ओर कोरोना संकट में रोजाना की तरह जरुरतमंद लोगों की सेवा निरन्तर जारी रखी जो की आज रविवार को भी जारी रही। बुल्लड़ पहलवान ने बताया कि मेरी माताजी शनिवार शाम को अस्पताल से ठीक होकर घर लोटी है। बुल्लड़ पहलवान ने पहलवान ने कहा कि यह जररतमन्दों व गरीब लोगों की ही दुआ थी जिसके कारण मेरी माता जी छह दिन आईसीयू में रहकर शनिवार को ठीक होकर घर पहुँची है। बुल्लड़ पहलवान ने कहा कि गरीबों की दुआ कभी खाली नही जाती इसलिए सामर्थ्य लोगों को जरूरतमंदो की हर संभव सहायता अवश्य करनी चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।