रांवर पुल के नजदीक पटरी में सुराख होने के कारण रांवर गांव में घुसा पानी
May 17th, 2020 | Post by :- | 51 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने मीडिया को बताया कि आवर्धन नहर के 60.200 नम्बर पर बाईं ओर रांवर पुल के नजदीक पटरी में सुराख होने के कारण सुबह 4 बजे के करीब पानी का रिसाव शुरू हो गया। नहर के पानी का बहाव नजदीक लगते करीब 250 एकड़ में पहुंच गया और कुछ पानी रांवर गांव आबादी देही में प्रवेश कर गया। जानकारी मिलते ही उपायुक्त निशांत कुमार यादव व सिंचाई विभाग की टीम मौके पर पहुंची, तब तक सुराख ने व्यापक रूप धारण कर लिया।

उन्होंने बताया कि गांव में जाने वाले पानी को सिंचाई विभाग व राजस्व विभाग व आपदा विभाग की टीम द्वारा नाके लगाकर काबू पा लिया गया है। अभी स्थिति नियंत्रण में है।उन्होंने बताया कि जहां प्रशासन तत्परता से इस कटाव पर रोक लगा रहा है वहीं डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी भी इसमें सहयोग कर रहे हैं। वह सुबह से ही मिट्टी भराव के कार्य में लगे हुए हैं।

उन्होंने बताया कि स्थिति को देखते हुए जिला प्रशासन ने पानी के बहाव को रोकने के लिए मशक्कत की और देखते ही देखते सब प्रबंध उनकी पूरी टीम ने किए। घरौंडा के विधायक हरविन्द्र कल्याण भी लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुए थे। उन्होंने भी ग्रामवासियों को आश्वस्त किया कि जल्द ही इस पानी का काबू कर लिया जाएगा।

उपायुक्त ने बताया कि आवर्धन नहर के ऊपर से बाईपास बनाया जाना प्रस्तावित है,परंतु कोविड-19 के दौरान इस कार्य के शुरू होने में विलम्ब हुआ है। गांव में अब पानी नहीं आने दिया जाएगा और जो पानी अंदर आ गया है उसको कुछ ही समय में बाहर निकाल दिया जाएगा। गांव की सुविधा के लिए पीने के पानी व खाने की व्यवस्था कर दी गई है। यदि किसी प्रकार का कोई भी नुकसान सामने आता है तो संभव है उसकी भरपाई सरकार द्वारा की जाएगी।

उपायुक्त ने बताया कि जिला प्रशासन व डेरा कार सेवा, निर्मल कुटिया व राधा स्वामी सत्संग द्वारा गांव व घटना स्थल पर करीब 5 हजार खाने के पैकेट तैयार करके भेजे हैं। रांवर के गुरूद्वारे में भी ग्रामीणों के लिए खाने का विशेष प्रबंध किए गए हैं।

कार्यकारी अभियंता नवतेज सिंह ने बताया कि आवर्धन नहर के 60.200 नम्बर पर बाईं ओर अचानक पटरी में सुराख के कारण पानी का रिसाव होना शुरू हो गया था। जैसे ही इसकी जानकारी विभाग को मिली तुरंत सिंचाई विभाग की टीम द्वारा कार्यवाही की गई और अब स्थिति नियंत्रण में है। गांव में जो पानी प्रवेश हुआ है, उसको तुरंत ईंजन लगाकर निकालने की व्यवस्था की जा रही है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।