गिलोय, तुलसी, अदरक व हल्दी फायदेमंद : जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डा0 सतपाल
May 17th, 2020 | Post by :- | 79 Views

अम्बाला, ( सुखविंदर सिंह ) जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डा0 सतपाल ने लोगों से अपील की है कि वे कोरोना वायरस से बचने के लिए सावधानी बरतें। सोशल डिस्टैंसिंग, हैडं वॉश, मुंह पर मास्क लगाकर रखना, इत्यादि नियमों का पालन करें क्योंकि कोरोना वायरस से बचाव ही इलाज है। लॉकडाउन का पालन करें और अपने घरों में रहें। जिला अम्बाला में 17 आयुर्वेदिक, 01 यूनानी तथा सामान्य अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में 11 आयुर्वेदिक, होम्यापैथिक आयुष विगं है, जिनमें कार्यरत आयुर्वेदिक व होम्यापैथिक चिकित्सा अधिकारी व कर्मचारियों द्वारा कोरोना वायरस को लेकर जागरूक किया जा रहा है तथा आयुर्वेदिक उपायों बारे जानकारी दी जा रही है।
        आयुष  मन्त्रालय भारत सरकार के द्वारा जारी एडवाइजरी के अनुसार गिलोय, अदरक व तुलसी, का काढ़ा बनाकर दिन में दो बार प्रयोग कर सकतें है इससें शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी। गिलोय बेल को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर रात को पानी में भिगोकर सुबह छानकर पीने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में आंवला भी कारगर होता है। इसमें विटामिन-सी प्रचुर मात्रा में होता है।
इसके अलावा हल्दी एंटीसेप्टिक का काम करती है। खांसी व गले की खराश में गोल्डन मिल्क यानि एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी डालकर पीने से लाभकारी है तथा शरीर को अंदरूनी शक्ति मिलती है। इसके अतिरिक्त तुलसी,दालचीनी, काली मिर्च, शुण्ठी व मुनन्का से बनी हर्बल टी/काढ़ा बनाकर ग्रीन-टी की तरह दिन में दो बार प्रयोग कर सकतें है। होम्यापैथिक की दवा आर्सेनिक-30 भी बहुत लाभकारी है जिसे होम्यापैथिक चिकित्सक की निगरानी में लेना चाहिये। नियमित योग करें क्योंकि योग करने से मनोबल की वृद्धि होती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।