पलवल में कोरोना पीडि़त एक और मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज, जिला में 39 केस में 36 हुए डिस्चार्ज|
May 17th, 2020 | Post by :- | 60 Views

सिविल सर्जन डॉ. ब्रह्मदीप सिंह की अपील, कोरोना से बचाव के लिए सतर्कता जरूरी, प्रशासन की हिदायतों का करें पालन

मुकेश वशिष्ट (हसनपुर पलवल) :-  जिला में रविवार को एक ओर कोरोना संक्रमित मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गया। जिससे जिला में अब तक कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या 36 हो चुकी है वहीं अभी भी जिला में कोरोना के 3 एक्टिव केस रह गए है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा रविवार को जारी मीडिया बुलेटिन में इस आशय की जानकारी दी गई।

जिले में सामने आए तीन नए मामलों पर सिविल सर्जन डॉ. ब्रह्मदीप ने चिंता जाहिर करते हुए जिलावासियों से आने वाले दिनों में सतर्क रहने की अपील की है। साथ ही जिला प्रशासन द्वारा जारी हिदायतों विशेषकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, फेस मास्क का उपयोग तथा हाथों की नियमित सफाई करें। उन्होंने कहा कि दुकानदार व सब्जी विक्रेता सामाजिक दूरी का पालन करते रहें। अगर वह सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल नही रखेंगे और मास्क नही पहनेंगे तो कोरोना जैसी घातक बीमारी की चपेट में आने का खतरा अधिक बढ सकता है।

उन्होंने सभी दुकानदारों व लोगों से आह्वïन किया है कि वे सभी अति आवश्यक कार्य होने पर ही घर से बाहर निकले और अपने घरों से बाहर निकलते समय फेस मास्क जरूर पहनें। बार-बार अपने हाथों को 20 सेकंड तक साबुन से धोए व सैनिटायज करें।

उन्होंने बताया कि लोग आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करें ताकि अपने आस-पास कोई संदिग्ध व्यक्ति एवं मरीज हो तो उसका पता चल जाए। दुकानदार अपनी दुकानों में ग्राहकों की भीड़ ना होने दें उनके लिए भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना सुनिश्चित करें। इसके अलावा किसी भी नागरिक को यदि कोरोना के मरीज से संबंधित कोई भी जानकारी मिलती है तो वह तुरंत हैल्प लाइन नंबर्स 1950, 100, 108 पर संपर्क करे।

सिविल सर्जन ने जानकारी देते हुए बताया कि जिला पलवल में इस समय कुल 4462 लोग सर्वेलेंस पर है, उनमें से 1156 लोगों ने 28 दिन की सर्वेलेंस अवधि पूर्ण कर ली है और 6 लोग अभी आइसोलेशन वार्ड में एडमिट है। जिला में कुल 39 मरीजों में से 36 ठीक होकर अपने घर जा चुके है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे बहुत जरूरी कार्य से ही घरों से बाहर निकलें। डा. ब्रह्मïदीप ने लोगों से अपनी दिनचर्या में प्रतिदिन 45 मिनट का योग और प्राणायाम शामिल करने के लिए कहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।