शहीदों की कुर्बानियों को भुलाया नहीं जा सकता: गुर्जर
September 4th, 2019 | Post by :- | 134 Views

होड़ल, मधुसूदन भारद्वाज:   गांव औरंगाबाद में आयोजित सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि  केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने पूर्व सैनिकों व शहीदों के परिजनों का फूल मालाओं व शॉल भेंट कर सम्मानित किया।  समारोह में केंद्रीय मंत्री ने देश की रक्षा पर अपनी जान न्यौछावर करने वाले अमर शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि आज जो हम सुरक्षित हैं वह शहीदों की बदौलत हैं जिन्होंने हमारे आज के लिए अपने कल को न्यौंछावर कर दिया। श्री गुर्जर ने कहा कि जो देश अपने शहीदों को भूल जाता है उनकी कुर्वानियों को भूल जाता है वह ज्यादा दिन स्वतंत्र नहीं रहता। गुर्जर ने कहा कि हम शहीदों की कुर्बानी कभी नहीं भुला सकते क्योंकि उनके बलिदान के कारण ही आज हम सुरक्षित हैं। समारोह में पहुंचने पर समिति की ओर से  मुख्य अतिथि केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्ण पाल  गुर्जर   का सरपंच हरदीप सिंह चौहान व गांव औरंगाबाद, मितरोल व गोपालगढ़ के मौजिज लोगों ने  फूल-मालाओं से व पगड़ी बांधकर जोरदार भव्य स्वागत किया गया।  सरपंच हरेन्द्र सिंह चौहान ने मंत्री को गांव के विकास कार्यों बारे मे मांग पत्र व समस्याए रखी। इस  पर मंत्री ने  समस्याओं निपटान व विकास कार्यो को पूरा करवाने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री ने लगभग एक करोड़ रुपये की लागत से बनाये गए सचिवाल  का पुनर्निर्माण व सौन्दर्यकरण कार्य व  रघुवर दास पार्क  सहित विभिन्न विकास कार्यों का उद्घाटन किया।  समारोह में पूर्व विधायक रामरतन, एसडीएम वत्सल वशिििष्ठ,जितेन्द्र कुमार, भाजपा नेता हरेंद्र सिंह,हरदीप सरपंच औरंगाबाद,महावीर सरपंच बामनीखेड़ा, परवीन डागर, बबली पार्षद, चंदन पार्षद, राजकुमार सरपंच गोपालगढ़, जोगिंदर सरपंच मितरोल, राजू तायल, दादा शिवचंदी, दादा मठर, विजन चौहान, जवाहर चौहान, विशनपाल, अशोक चौहान, राजेन्द्र सिंह, ग्राम पंचायत के सभी मेंबर्स, रंजीत, सोहनलाल, प्रताप मेम्बर, नत्थी मास्टर, कैप्टन भरतलाल, मास्टर भजनलाल, पाल पंच जयनारायण, वीरबल पंडित, मंगल मास्टर, महावीर चौहान, पवन,नरवीर चौहान, जगबीर मंडल अध्यक्ष बीजेपी, पवन चौहान, मोहरपाल फौजी सहित आस-पास गांव के अनेक पंच-सरपंच एवं गणमान्य लोग मौजूद थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।