भाजपा के 6 वर्ष शासन की तुलना कांग्रेस के 55 वर्ष के शासन से की
May 17th, 2020 | Post by :- | 75 Views
कुरुक्षेत्र, ( सुरेशपाल सिंहमार )    ।   कुरूक्षेत्र लोकसभा क्षेत्र के सांसद नायब सैनी ने कहा कि मेरा पानी मेरी विरासत योजना का मुख्य उद्देश्य कुरुक्षेत्र को डार्क जोन से निकालना है। मात्र एक किलो चावल पर 3000 लीटर पानी का इस्तेमाल होता है, ऐसे में इसे रोकने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य यह है कि हम आने वाली पीढियों को जल बचाने की दिशा में एक ऐसी विरासत दें ताकि उन्हें भविष्य में जल संकट का सामना न करना पडे। लगातार गिर रहा भूजल स्तर गंभीर चिंता का विषय बना है।
वे शनिवार को देर सायं पीडब्ल्यूडी विश्रामगृह में एक पत्रकार सम्मेलन वार्ता को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जो किसान धान की बजाय नरमा, मूंग, अरहर, उडद, मक्का तिल, व सब्जियों की काश्त करेंगे, उन्हें सरकार की ओर से 7 हजार रुपए प्रति एकड़ की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। इसके अलावा सरकार की ओर से डार्क जोन में खेती करने वाले जो किसान सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली अपनाएंगे, उन्हें 80 प्रतिशत अनुदान सरकार की ओर से दिया जाएगा। धान की वैकल्पिक फसलों की खरीद एमएसपी पर की जाएगी। उन्होंने कहा कि जल बचाने के लिए ही यह योजना शुरू की है जिसका लक्ष्य ही किसान के खेतों के साथ साथ पानी भी बचे।
उन्होंने कहा कि पंचायती जमीनों पर 1400 तालाब विकसित करने की सरकार द्वारा योजना लागू की जाएगी। जलस्तर को ऊपर लाने के आत्मनिर्भर होने के लिए एसवाईएल नहर, कुमाऊं, रेणुका बांधों से पानी का हिस्सा लेने को सरकार कृतसंकल्प है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री मनोहर लाल की दूरदर्शिता व सूझबूझ तथा उनकी योजनाओं की सराहना करते हुए कहा कि संकट की इस घड़ी में पूरा देश प्रदेश उनके नेतृत्व में एकजुट होकर खडा है। इस समय पूरे विश्व में वैश्विक महामारी फैली हुई है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से भी आहवान किया कि वह स्वयं अपने हित में व राष्ट्रहित में सरकार की योजनाओ को अपनाएं क्योंकि सरकार वास्तव में उन्हीं के कल्याण व उत्थान तथा उनकी आय दोगुणा करने को वचनबद्ध व कृतसंकल्प है। प्रधानमंत्री ने भारतवर्ष को आत्मनिर्भर बनाने के लक्ष्य से तथा स्वदेशी को बढावा देने व अपनाने के लिए जो संकल्प किए हैं, हमें राष्ट्रहित में उनकी महत्ता को पहचानना चाहिए। इस मौके पर मुख्यमंत्री के राजनैतिक सचिव एवं पूर्व मंत्री कृष्ण कुमार बेदी, सर्वजीत सिंह कंबोज कलसानी, मुलखराज गुंबर, अरूण कंसल, राजेश चावला, राज सतीजा, बलदेव राज सेठी आदि मौजूद थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।