मां तुझ बिन सब खुशियां हैं गम।
May 15th, 2020 | Post by :- | 84 Views

चंडीगढ़ ( मनोज शर्मा) गीत का केंद्रीय भाव: प्रस्तुत गीत ‘मां तुझ बिन सब खुशियां है गम’ डॉ. विनोद कुमार शर्मा द्वारा रचित है। इस गीत का केंद्रीय भाव यह है कि मां के बिना हर खुशी अधूरी है। एक व्यक्ति जिसकी मां मृत्यु की गोद में समा गई है, वह उसे याद करता हुआ बिलख उठता है। वह अन्य लोगों से आग्रह करता है कि वे उसकी खोई हुई मां को ढूंढने में उसकी सहायता करें। वह इसके बदले में संसार का हर सुख त्यागने को तैयार हैं।

कवि को खुद भी मां के बिछड़ने का अहसास है। उसका कहना है कि मां तो ममता का आंचल है। मां और उससे बच्चे की आत्मा आपस में इतनी घुली मिली होती हैं कि वह अपने बच्चे के दुख से दुखी और उसके सुख से सुखी हो जाती हैं। माँ परमात्मा का रूप है। मां का आशीर्वाद हर दुख का निवारण है इसलिए भूल कर भी मां का तिरस्कार नहीं करना चाहिए।

मां तुझ बिन सब खुशियां हैं गम।
सुनो मेरे अपनों सुनो ए दुनिया वालों
हर सुख ले लो मेरा, पर मेरी मां को ढूंढ निकालो,
मिल गई धरा के आंचल में, या आकाश में खो गई है,
हर सुख छिन गया है, दिल बेचैन हो गया है
बेचैन दिल तड़पता है हरदम,
मां तुझ बिन सब खुशियां हैं गम।

मेरा हर दुख उसने अपनाया,
हर दुख में उसकी दुआओं ने बचाया,
अपना निवाला भी मेरे मुंह में डाला,
दुख सहकर भी न छोड़ा पाला,
हौसला दिया मुझको हरदम,
मां तुझ बिन सब खुशियां है गम।

तूने जिंदगी से लड़ने का पाठ पढ़ाया ,
तूने ही आगे बढ़ना सिखाया,
मेरी चंचलता ने तुझे परेशान किया,
गलती से तुझे दुख भी दिया ,
टूट चुका था निकला हर भ्रम,
मां तुझ बिन सब खुशियां हैं गम।

माँ तेरे कदमों में शीश झुकाता,
दिल में बसी मेरी जीवनदाता,
तेरे आशीषों से था खुशहाल हुआ मै,
सब कुछ पाकर फिर कंगाल हुआ मैं,
अब हर पल मेरी आँख है नम,
मां तुझ बिन सब खुशियां है गम।

मां की ममता कोई ना आंक सका,
अनमोल प्यार उसका दे ना सका,
भूलकर उसका तिरस्कार ना करना,
पाकर सब कुछ उसके चरणों में रखना,
हम पर हैं उसके रहमो करम,
मां तुझ बिन सब खुशियां है गम।

*डॉ० विनोद कुमार शर्मा, चंडीगढ़।*

©
सर्वाधिकार सुरक्षित।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।