डीसी के सख्‍त आदेश, खेतों में न लगाएं ब्लेड वाली तारें, जो लगा चुके वो भी हटाएं
May 13th, 2020 | Post by :- | 52 Views

उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने जिला में खेतों में ब्लेड वाली तारें लगाने पर प्रतिबंध लागू किया है। इसके साथ ही जिन किसानों ने ब्लेड वाली तारें लगा रखी हैं उन्हें भी तुरंत प्रभाव से हटाने के आदेश जारी किए हैं। जिलाधीश ने बताया कि मंडलीय वन प्राणी अधिकारी ने बताया है कि जिला में काला हिरण बहुतायत संख्या में पाया जाता है जोकि वन्य प्राणी सुरक्षा अधिनियम-1972 के शैड्यूल-1 में संरक्षित है।

उन्होंने बताया कि अपनी फसल की सुरक्षा हेतु कुछ किसानों ने अपने खेतों में ब्लेड/रेजर तारों का इस्तेमाल किया है। इनमें फंसने से कटकर वन्य जीवों की गंभीर रूप से घायल होने की सूचनाएं उनके कार्यालय को मिलती रहती हैं। वन्य प्राणी निरीक्षक द्वारा कुछ किसानों को ब्लेड तारें हटाने के नोटिस भी दिए गए थे। इसके बाद कुछ किसानों ने तो ये तारें हटवा लीं लेकिन अभी भी कुछ किसानों ने इन तारों को नहीं हटवाया है। इसलिए उन्होंने इस संबंध में जिला में धारा-144 लागू करने का अनुरोध किया है।

बता दें कि ब्‍लेड वाली तारों के कारण नील गाय भी घायल होकर दम तोड़ देती हैं। इन तारों में तेज धार वाले ब्‍लेड लगे हाेते हैं जो बाड़ पर कूदने के वक्‍त पशु को नीचे से काट देते हैं। इससे मौत होना लाजमी है। इसकी बजाय कांटे दार तारों से हादसा होने का खतरा कम रहता है। ब्‍लेडनुमा तार बेहद खतरनाक होती हैं ऐसे में डीसी ने यह फैसला लिया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।