संत पर हुए हमले को लेकर धर्म रक्षा संघ की बैठक जिसमें संत पर हमले की निंदा की गई
May 12th, 2020 | Post by :- | 43 Views

वृंदावन,मथुरा(राजकुमार गुप्ता)धर्म रक्षा संघ की एक बैठक आज महंत बनमाली दास जी महाराज की अध्यक्षता में भागवत निवास आश्रम, रमन रेती वृन्दावन में आयोजित की गई.बैठक में कल इमली तला के महंत तमाल कृष्ण जी महाराज के ऊपर हुए प्राणघातक हमले एवं उनकी हत्या की कोशिश पर भयंकर रोष व्यक्त किया गया,बैठक में धर्म रक्षा संघ के पदाधिकारियों प्रमुख अखाड़ों के श्री महंत एवं अन्य साधु संतो ने महंत श्री तमाल कृष्ण महाराज के साथ हुई घटना की कड़े शब्दों में निंदा की। भागवत निवास के महंत सुखदेव बाबा ने कहा कि वृन्दावन जैसी धार्मिक जगह पर एक संत के साथ घटी इस घटना ने सभी संतो को भयभीत कर दिया है।महंत सुंदर दास जी महाराज ने कहा पिछले कुछ समय से संतों के खिलाफ ऐसे षड्यंत्र किए जा रहे हैं कि एक के बाद एक संतों की हत्याएं हो रही हैं जोकि बहुत चिंताजनक है।महंत श्री लाड़ली दास महाराज ने कहा कि उत्तर प्रदेश में संतो की सरकार होने के बाद भी संतों की हत्या होना या हत्या के प्रयास होना बहुत गंभीर बात है।महंत सच्चिदानंद दास ने कहा तमाल कृष्ण महाराज को पहले भी जान से मारने की धमकी मिलती रही जिसकी उन्होंने पुलिस प्रशासन में शिकायत की थी मगर पुलिस ने उनकी सुरक्षा के लिए कोई कदम नहीं उठाए।धर्म रक्षा संघ के राष्ट्रीय संयोजक आचार्य बद्रीश एवं अध्यक्ष सौरभ गौड़ ने कहा कि तमाम कृष्ण महाराज के ऊपर जानलेवा हमले में जो भी लोग शामिल हैं उन्हें पुलिस तुरंत गिरफ्तार करे और उन पर कठोर धाराएं लगाकर कानूनी कार्यवाही करे।धर्म रक्षा संघ के राष्ट्रीय प्रभारी महामंडलेश्वर स्वामी रूद्र देवानन्द जी महाराज एवं महंत मोहिनी बिहारी शरण ने कहा कि तमाल कृष्ण महाराज की हत्या के प्रयास के पीछे कुछ बांग्लादेशी नागरिकों का हाथ भी हो सकता है, पुलिस को गंभीरता पूर्वक जांच करके सभी अपराधियों को गिरफ्तार कर कठोर दंड दिलवाना चाहिए।धर्म रक्षा संघ के महामंत्री श्रीदास प्रजापति ने धन्यवाद ज्ञापन किया।बैठक में शिव हरिदास,आचार्य रामानुज,देवानंद चंदन मुनि,बृजेश गोस्वामी,महंत सुबल दास आदि उपस्थित थे।
सौरभ गौड़ : अध्यक्ष
धर्म रक्षा संघ

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।