मजदूरों को सीमा मैं प्रवेश करने से रोकना पुलिस को पड़ा महंगा
May 11th, 2020 | Post by :- | 48 Views

मथुरा,(राजकुमार गुप्ता) लॉकडाउन में भी मजदूरों का पैदल पलायन उस समय मथुरा पुलिस पर भारी पड़ गया जब राजस्थान यूपी बॉर्डर पर मुख्यमंत्री योगी के निर्देशों का पालन कराते हुए यूपी पुलिस ने पैदल पलायन कर रहे मजदूरों को सीमा में प्रवेश करने से रोक दिया। मजदूरों के बहुतायत में होने पर मजदूर पुलिसकर्मियों पर भारी पड़ गए | जिसमें 2 दरोगाओं के घायल व कुछ पुलिसकर्मियों के चुटैल होने की बात भी सामने आई है। फिलहाल तनाव और पुलिस पर हमले की बात की जानकारी होते ही एसएसपी और डीएम सहित कई थानों के फोर्स मौके पर पहुँच गया है और स्थिति पर नजर बनाए हुए है।
उधर एसएसपी भरतपुर ने सारे मामले में लापरवाही बरतने पर इंस्पेक्टर औद्योगिक नगर के खिलाफ कार्यवाही का भरोसा दिलाया है। दरअसल अन्य प्रदेशों से मजदूरों का पलायन लगातार जारी है जिसकी वजह से कोरोना लगातार यू पी में अपने पैर पसार रहा है इसी को देखते हुए मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य परीक्षण के बाद ही मजदूरों को समुचित व्यवस्था के तहत घर तक पहुँचाने की बात कही थी और थाना मगोर्रा की जाजम पट्टी पर यू पी पुलिस मजदूरों के स्वास्थ्य परीक्षण व क्वारीन्टीन करने की प्रक्रिया पूरी कर ही मजदूरों को प्रवेश करा उनको गंतव्य तक छोड़ने में लगी हुई थी लेकिन राजिस्थान से मजदूर लगातार प्रवेश कर रहे थे और राजिस्थान पुलिस उन मजदूरों को नही रोक रही थी। बताया जा रहा है की कल शाम को राजिस्थान सीमा पर इकठ्ठे हुए मजदूरों को यू पी पुलिस ने आज भेजे जाने का आस्वासन दिया था ओर उसी की व्यवस्थाओं को पूरा करने में मथुरा प्रसाशन जुटा हुआ था तभी मजदूरों का सब्र का बाध टूट गया और राजिस्थान पुलिस के लचर व्यवहार के चलते मजदूर आगे बढ़ने लगे ओर इसी में दो दरोगाओं सहित कुछ पुलिसकर्मी घायल हो गए। बॉर्डर पर बबाल व पुलिस कर्मियों के घायल होने की सूचना पर तत्काल ही एसएसपी और डीएम सहित भारी संख्या में पुलिस बल पहुँच गया। फिलहाल एसएसपी मथुरा और भरतपुर एसएसपी वार्ता कर मामले का हल निकालने में लगे हुए है ओर वार्ता के बाद तय हुआ है कि अब कोई मजदूर पैदल यू पी की सीमा में प्रवेश नही करेगा। सभी इंतजामो के बाद ही सभी मजदूरों को मथुरा प्रसाशन उनके घर तक भिजवायेगा तब तक मजदूर राजस्थान में ही रहेंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।