सेहत विभाग की लापरवाही के चलते पहले आई नेगेटिव रिपोर्ट को बताया पॉजिटिव ।
May 11th, 2020 | Post by :- | 120 Views

सेहत विभाग की लापरवाही के चलते गांव लोहगढ़ के निवासियों में डर का माहौल हज़ूर से वापिस आई श्रदालू औरत 9 मई को रिपोर्ट नेगेटिव आने पर भेजा घर और 10 मई को रिपोर्ट पॉजिटिव बताकर दुबारा हसपताल भेजा ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
क्रोना वायरस के खतरे को मुख्य रखते हुए सेहत विभाग द्वारा की जा रही लापरवाहियों के चलते लोगों ने रिपोर्टों ओर भी शक करना शुरू कर दिया है। इसकी मिसाल गांव लोहगढ़ की हज़ूर साहिब से 29 अप्रैल को वापिस आई श्रदालु औरत सतविंदर कौर पत्नी बघेल सिंह ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए कहा कि उनकी पत्नी 17 मार्च को अपने कुछ और रिश्तेदारों के साथ हज़ूर साहिब के दर्शन करने के लिए गई थी पर कर्फ्यू लोकडौन के चलते वह वही घिर गए। फिर पंजाब सरकार द्वारा 29 अप्रैल को भेजी गई बसों द्वारा वापिस अमृतसर पहुंचने पर सेहत विभाग द्वारा गांव फतेहगढ़ शुकरचक के एक डेरे के प्रचार केंद्र में भेज दिया गया औऱ क्रोना टेस्ट के लिए सैंपल लिए गए ।9 मई को एस एम ओ डॉक्टर देस राज द्वारा कुल 27 मेम्बरों की लिस्ट में क्रोना रिपोर्ट नेगेटिव के सर्टिफिकेट देकर सभी को घरों में भेज दिया गया ।सतविंदर कौर का इस लिस्ट में 14 वें नंबर पर दर्ज है।पर अगले दिन 10 मई को बाद दुपहर 2 बजे के करीब सेहत विभाग के कर्मचारी पुलिस फोर्स समेत एम्बुलेंस गाड़ी लेकर लोहगढ़ गांव पहुंच गए और कहा कि इसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और इसको हसपताल लेकर जाना है ।इसका गांव वासियों द्वारा सख्त विरोध किया गया कि कल एस एम ओ द्वारा जारी सर्टिफिकेट क्रोना का नेगेटिव सर्टिफिकेट दिया गया है ।इस मौके पर डी एस पी बाबा बकाला हरकृष्ण सिंह मौके पर पहुंच कर सतविंदर कौर सेहत विभाग के कर्मचारियों के साथ अमृतसर भेजा गया। लोक इंसाफ पार्टी के सीनियर नेता चरनजीत सिंह भिंडर ने कहा कि हज़ूर साहिब से आए यात्रियों के साथ राजनीति की जा रही है। कभी रिपोर्ट नेगेटिव और कभी पॉजिटिव शक सुई सरकार की ओर इशारा करती है ।उन्होंने ने कहा इस मामले को लेकर वह अमृतसर के सेहत अधिकारियों से भी बात करेंगे ।इस मौके ओर लोहगढ़ के मेंबर पंचायत गुरदीप सिंह ,बाबा अजीत सिंह ,कामरेड सुखविंदर सिंह ,प्रधान गुरभेज सिंह ,बाबा पाखर सिंह हाजिर

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।