आज फिर 1188 प्रवासी श्रमिकों को लेकर अम्बाला छावनी से बिहार के मुज्जफरपुर के लिए रवाना हुई विशेष ट्रेन–मौके पर उपस्थित रहे डीसी अशोक
May 11th, 2020 | Post by :- | 21 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा) प्रवासी श्रमिक बोले एक बार तो हमने आस ही छोड़ दी थी कि हम अपने घर पहुंच पायेेंगे भी या नहीं लेकिन भला हो हरियाणा सरकार और प्रशासन का जिन्होंने हमारी सुध ली, स्वास्थ्य चैक किया, मास्क उपलब्ध करवाये तथा खाने के पैकेट उपलब्ध करवाये,प्रवासी श्रमिक बोले जुगजुग जीयो हरियाणा सरकार,थारा भला करै भगवान।
उपयुक्त अशोक कुमार शर्मा के मार्गदर्शन में बेहतर समन्व्य के साथ प्रवासी श्रमिकों को उनके घर भेजने का कार्य निरतंर जारी है। इसी कड़ी में सोमवार अम्बाला छावनी जंक्शन के प्लेटफार्म नंबर-3 से 1188 प्रवासी श्रमिकों को मुज्जफरपुर (बिहार) भेजने का कार्य किया गया। सात जिलों के प्रवासी श्रमिकों को ट्रेन में बिठाने से पूर्व उनके स्वास्थ्य की जांच करते हुए उन्हें मास्क, खाने के पैकेट, पानी की बोतल भी उपलब्ध करवाई गई ताकि रास्ते में उन्हें किसी परेशानी का सामना ना करना पड़े।
उपायुक्त ने बताया कि प्रदेश में जो खेतीहर प्रवासी श्रमिक लाकडाउन में फंस गए थे, उन्हें निरंतर ट्रेन के माध्यम से उनके घर भेजने का कार्य किया जा रहा है तथा यह कार्य बिल्कुल निशुल्क किया गया है। यहां पहुंचने पर सभी श्रमिकों के स्वास्थ्य की पहले जांच की गई, उसके उपरांत उन्हें निशुल्क टिकट देते हुए जिला प्रशासन की ओर से मास्क, खाने के पैकेट, पानी की बोतल दी गई ताकि रास्ते में उन्हें किसी परेशानी का सामना न करना पड़े। इसके अलावा प्रवासी श्रमिकों को पुलिस कर्मचारी व रेलवे कर्मचारियों की सहायता से सोशल डिस्टैंस्गि के साथ निर्धारित कोचों में बिठाने का काम किया गया।
चण्डीगढ़ से आये नोडल अधिकारी कैप्टन शक्ति सिंह ने बताया कि सभी प्रवासी श्रमिकों को बेहतर समन्वय के साथ उनके घर भेजने का काम किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आज अम्बाला छावनी रेलवे स्टेशन से 1188 प्रवासी श्रमिकों को बिहार में भेजने का काम किया गया है। समाजसेवी संस्थाओं और रेलवे प्रबंधन के सहयोग से सभी के लिए खाने की व्यवस्था करवाई गई है। उन्होने यह भी बताया कि श्रमिकों के साथ बच्चे भी थे। डीसीएम डा0 रितिका वशिष्ठï और स्टेशन अधीक्षक बी.एस. गिल ने बताया कि स्पेशल प्रवासी श्रमिक ट्रेन में 24 डिब्बे लगाये गये हैं। यह ट्रेन वाया सहारनपुर होते हुए 25 घंटे में मुज्जफरपुर पहुंचेगी। उन्होंने यह भी बताया कि सरकार द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार पूरी व्यवस्था को कार्यरूप में परिणित किया जा रहा है।
प्रवासी श्रमिक सोना लाल, अखिलेश, जोगीमाजी, बेचूरास ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने उन्हें उनके घर निशुल्क भेजने का जो कार्य किया है उसके लिए वे उनके आभारी हैं। राज्य सरकार का तहे दिल से धन्यवाद करते हैं कि संकट की इस घड़ी में उन्होंने प्रवासी श्रमिकों को घर भेजने का जो बीड़ा उठाया है वह सराहनीय कदम है। एक बार तो उन्होंने आस ही छोड़ दी थी कि वे अपने घर पहुंच पायेेंगे भी या नहीं लेकिन भला हो हरियाणा सरकार का जिन्होंने हमारी सुध ली, स्वास्थ्य चैक किया, मास्क उपलब्ध करवाये तथा खाने के पैकेट उपलब्ध करवाये।
उन्होंने बताया कि वे फसल की कटाई के लिए हरियाणा के विभिन्न जिलो में आये हुए थे। मुखदेव पासवान, लाल महमूद, बिंदु ने बताया कि जिला प्रशासन ने पूरी देखरेख के साथ उन्हें जो सुविधा दी है उसके लिए भी वे उनके आभारी हैं। घर जाते समय उन्हें खाने की सुविधा, मास्क, पानी की बोतल भी उपलब्ध करवाई गई है। उन्होंने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि वे अपने राज्य मे पहुंचने पर हरियाणा सरकार द्वारा जो कार्य किया गया है उस बारे अपने परिवार सहित अन्य लोगों को जरूर अवगत करवायेंगे कि सकंट की इस घड़ी में उन्होंने हमें परिवार के रूप में रखकर और उन्हें घर भेजने का निशुल्क कार्य किया है। इस मौके पर सीआईडीएसपी राजेश कालिया, इस्टेट ऑफिसर सत्येन्द्र सिवाच, स्टेशन अधीक्षक बी.एस. गिल, डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह सहित रेलवे एवं पुलिस विभाग के अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।