क्या ऐसे रुकेगा क्रोना ?सड़को और बैंकों के आगे भीड़ बढ़ा रही है क्रोना का खतरा ।
May 11th, 2020 | Post by :- | 95 Views

क्या ऐसे रुकेगा क्रोना ?
सड़को पर और बैंकों के आगे लगी भीड़ बढ़ा रहा है क्रोना संक्रमण का खतरा ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
जहाँ जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन द्वारा कोविड 19 म्हांमारी की जंग जीतने के लिए हर संभव यत्न कर रही है। लेकिन जो आज हालात जंडियाला गुरु के हैं उससे देखकर यूं लगता है कि जहाँ ऐसे हालात है कि कभी क्रोना का संक्रमण हो सकता है । यहाँ पर गैर जरूरी वस्तुओं की दुकानें सुबह 4 बजे ही खुल जाती है ,जिन पर लोग समान लेने के लिए शहर के इलावा कई गाँवो दूर दूर से आते है जो अवैध रूप दुपहिया और 4 पहिया वाहन बाज़ारों में लाते है जो कि भीड़ का कारण बनते हैं ।बता दे कि जिला प्रशासन की हिदायतों के अनुसार कोई भी वाहन बिना परमिट के लाना मना है ।अगर किसी को कोई जरूरी सामान या दवाई चाहिए तो तो वह अकेला औऱ पैदल आने का नियम है ना कि व्हीकल पर ।इसी तरह यहाँ पर जो खाने पीने वाली वस्तुएं पूरी तरह से बैन है उनमें से यहाँ पर बिना रोकटोक मिठाई ,गन्ने का रस की बिक्री हो रही है ।इनकी बिक्री करने वालों के पास ना ही वैलिड परमिट न ही यह मास्क और सैनेटाइज़र का प्रयोग करते हैं ।अगर कोई अचानक क्रोना पॉजिटिव मरीज़ आ जाये तो यह सभी जगह क्रोना संक्रमण का बड़ा केंद्र बिंदु बन सकती है।
भले ही बैंको ने भीड़ करने के लिए कुर्सियां रखी हुई है लेकिन लोग बैंक में जल्दी जाने के चक्कर में सोशल डिस्टेंस को भूल जाते हैं ।
कुछ दुकानदारों में पुलिस चौकी के कर्मचारियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह कुछ चहेतों की दुकानों को जो कि गैर जरूरतमन्द वस्तुओं के वर्ग में आती है खुलवाते है जबकि दूसरी दुकानों को बंद करवा देते है ।उन्होंने कहा कि ऐसा व्यवहार से क्रोना के खिलाफ जंग जीती नही जा सकती ।इसलिए सभी के लिए एक जैसा नियम होना चाहिए ।हम क्रोना की जंग जीतने के लिए प्रशासन के साथ खड़ें हैं ।
इस मामले में चौकी इंचार्ज चरण सिंह ने कहा कि अभी जिला प्रशासन की ओर से खुलने के लिए नए निर्देश नही जारी हुए है ।इसलिए पहले वाले निर्देश ही लागू रहेंगे जो गैर जरूरी वस्तुओं की दुकानों है उनको बन्द करवा दिया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।