प्रशासन न ही रोटी देता और न ही रोजी-रोटी कमाने की राह खोलता : प्रदीप चौधरी
May 10th, 2020 | Post by :- | 72 Views

-45 दिन बीतने पर लोगों में बढ़ रहा विरोध

कालका (हरपाल सिंह)।

लॉकडाउन के चलते रोजी-रोटी की तलाश में सिर्फ जरूरतमंद लोगों के इंतजार ही हाथ लगा। प्रशासन न तो लोगों को रोटी दे पाया और न ही रोजी-रोटी के लिए राह खोल पा रहा है। यहीं कारण है कि मढ़ावाला में आज लोग विरोध में उतर आए। उक्त शब्द कालका से विधायक प्रदीप चौधरी ने कहें। विधायक प्रदीप चौधरी ने कहा कि पिंजौर-कालका की ज्यादात्तर जनता हिमाचल के उद्योग पर रोजी-रोटी कमाने पर निर्भर है। मीडिया ने भी कई बार इन लोगों की मांगों को जन भावना के आधार पर उठाया, लेकिन प्रशासन हर किसी को दरकिनार कर रहा है। अब लोगों की मांग है कि जब प्रशासन उनके लिए खाने का इंतजाम ही नही कर पा रहा है तो फिर ऐसे में उसे कम से कम हिमाचल उद्योग में काम करने के लिए हिमाचल सरकार से टाईअप कर आने-जाने के लिए पास व्यवस्था तो करवानी चाहिए। जिससे लोगों को काम धंधा करने पर जाने के बाद अपने परिवार का पेट भरने के लिए कमाई का साधन मिल जाए। हमने बार-बार अवगत करवाया कि हिमाचल से सटे दून क्षेत्र में ऐसी बड़ी आबादी है, जो रशन के इंतजार में है। परंतु उनके लिए राशन का आज तक इंतजाम नही हो सका। आज भी इंसीडैंट कमांडर से बात की और अब वो भंडारा लगाने की बात कर रहे है। जबकि इससे पहले धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक संस्थाओं ने जरूरतमंद लोगों के लिए खाने का इंतजाम किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।