दुनियां की सभी माँ के चरणों मे मेरा शीश झुका के नमन :-प्रवीण हुड्डा पिंजोर
May 10th, 2020 | Post by :- | 140 Views

न्यूज़ अरुण वर्मा

बहुत भाग्यशाली हैं वो जिनकी माँ का साया उनके सर पर है। माँ की ममता क्या होती है उनसे पूछो जिनके पास माँ नहीं है उन अभागों में से मैं भी एक हूँ 23 वर्ष का था जब भगवान ने माँ का आँचल छीन लिया मुझसे। मेरी माता जी टीचर थी अभी इस समय होती तो प्रिंसिपल होतीं ओर 2028 में रिटायरमेंट होती। लेकिन अपनी मां का स्वरूप अक्सर उन विधार्थियों में देखने को मिल जाता है जिनको मेरी माता जी ने पढ़ाया उनमें से बहुत से आज सरकारी विभागों में उच्च पदों पर आसीन हैं और जब भी मिलता हूँ उनसे तो उनका एक ही वाक्य होता है कि “हमारी जिंदगी बनाने वाली आपकी माता जी ही हैं ” माँ का स्वरूप उन लोगो मे अक्सर देखने को मिल जाता है। आप सब से भी मेरी आज के विशेष दिन मदर डे पर यही गुजारिश है कि माँ बाप का दिल न दुखाएं ओर उनकी कद्र करें। यही सही मायने मैं यही मदर डे उपहार होगा उन सब माताओँ के लिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।