जब लोगो को पता चला कि ये बच्चे, महिला ब पुरुष है भूखे और प्यासे तो उन्होंने आरएसी के जबानों की मदद से उपलव्ध कराया भोजन पानी साथ ही रात मे सोने के लिए किया इंतजाम
May 10th, 2020 | Post by :- | 36 Views

संवाददाता शौकत अली

करोनां संकट के बीच सेकड़ो किलोमीटर की पैदल यात्रा करते हुए अपनी मंजिल की तरफ बढ़ रहे मुसीवत के मारे भूखे प्यासे मजदूरों को हर सम्भब मदद देने के राज्य के कैविनेट मंत्री बिश्वेन्द्र सिंह के निर्देशों का राजस्थान के भरतपुर में धरातल पर नजर नही आया शनिवार शाम तक कोई असर। 30 घण्टो में 100 किलोमीटर का पैदल सफर कर अलवर से भरतपुर पहुचे ऐसे ही मजदूरों का करीब 50 लोगो का एक दल शनिवार शाम को जब शहर के कुम्हेरगेट बाईपास पर पहुचा तो वहां तैनात पुलिसकर्मियों ने उन्हें उत्तरप्रदेश के लिए सारस चौराहे के 3-4 किलोमीटर के शार्टकट रास्ते की जगह मथुरा बाईपास के सेवर होते हुए करीब 20 किलोमीटर का रास्ता दिया बता। बो तो गनीमत रही कि अनोखी ढाणी के पास शहर के वार्ड नम्बर 1 कमालपुरा के लोगो की इन मजबूर मजदूरों पर पड़ गयी नजर जिन्होंने हालात के मारे इन महिला, बच्चो ब पुरुषों को अपने मोहल्ले में सड़क किनारे लिया रोक। जब इन लोगो को पता चला कि ये बच्चे, महिला ब पुरुष है भूखे और प्यासे तो उन्होंने आरएसी के जबानों की मदद से उपलव्ध कराया भोजन पानी साथ ही रात मे सोने के लिए किया इंतजाम। इस बीच जानकार लोगो ने प्रशासन की कई तरह की हेल्पलाइनो पर इन मजबूर मजदूरों की मदद के लिए घुमाए फोन लेकिन कही से भी कोई नही बनी बात।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।