आंध्र प्रदेश से पैदल आ रहे मजदूरों को पुलिस ने रोका जिला प्रशासन ने नही ली सुध।
May 10th, 2020 | Post by :- | 64 Views

कांकेर -: मजदूरों की परेशानियां हरा राज्य के गले की हड्डी बानी हुई है । जहां कई राज्य मजदूरों की समस्याओं के हल के लिए तत्पर हैं वही छत्तीसगढ़ में मजदूरों की दशा कुछ खास नही है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है कांकेर जिले से जहां एक मजदूरों का जत्था जिला कोरिया एवम मण्डला के लिए आंध्रप्रदेश के विजयपुरम से पैदल चल कर कांकेर पहुंचा । ख़बर मिलते ही पुलिस ने उनसे आगे की कर्यवाही इत्यादि के लिए रोक लिया एवम जिला अधिकारियों को सूचना दी काफी देर बाद नही जिला अधिकारि की तरफ से मजदूरों के सम्बन्ध में बातचीत या जांच सम्बन्धी किसी भी प्रकार की कर्यवाही नही की गई बेचारे मजदूर भूखे प्यासे कड़ी धूप मै पुलिस के आदेश से शंकर नगर थाने के पास पड़े रहे । और बार बार उन्हें छोड़ देने की मांग करते रहे परन्तु जिला प्रशाशन से कोईअधिकारी न आपाने के कारण उन्हें लंबा इंतजार करना पड़ा । न किसी ने उन्हें भोजन के बारे में पूछा और न ही कोई उनकी मदद में आगे आया। ऐसे में कांकेर जिले प्रसाशन पर सवाल उठता है। उनकी लापरवाही किसी को भी नुकशान में डाल सकती थी । न ही किसी प्रकार की जांच की गई न ही मजदूरो से बात की गई। उन्हें किसी भी प्रकार का संक्रमण है या नही इसकी जांच कौन करेगा। इस प्रकार से कांकेर जिले की प्रशाशन व्यवस्था पर सवालिया निशान लगता है। एवम आम जनता का विस्वास जिला प्रशासन पर से उठता नजर आता है। ऐसे संवेदनशील मुद्दे पर जिला प्रशाशन का सुस्त रवैया बड़े सवाल खड़े करता है। मीडिया संवाददता द्वारा इंतज़ार के बाद जब इससे सम्बन्धित अधिकारियों से सम्पर्क किया तो फ़ोन भी नही लिया गया । इस प्रकार का रवैया वाकई में सरकार की जिमेदारी पर सवालिया निशान है। हमारे संवाददाता गणेश तिवारी ने इस पर खेद जताया एवम मजदूरों को मदद पहुंचाई । अब देखना है कि इस खबर के बाद प्रशाशन कितनी तत्परता एवम सतर्कता दिखता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।