मैनहोल ओवरफ्लो होने से हसनपुर के सैडकी मौहल्लेवासी नरकीय जीवन जीने को मजबूर |
September 4th, 2019 | Post by :- | 53 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-  खण्ड व गाँव हसनपुर में सीवर के मैनहोल ओवरफ्लो होने से वार्ड न०-1 सैडकी मौहल्ले के लोगो का जीना दूभर हो चला हैं गलीयों में जगह-जगह मैनहोल ओवरफ्लो होने से गन्दगी के अम्बार लगे हैं जिसके कारण सैडकी मौहल्ले वालों का गलियों से निकला दूभर हो चला हैं | रास्तों पर गन्दगी जमा होने से मच्छरों का पनपने से कॉलोनी के के बच्चे, व बुजर्ग आये दिन बीमार रहने लगे हैं | इस सैडकी मौहल्ले के लोग नरकीय जीवन जीने को मजबूर हो चले हैं |

अधिवक्ता रामबीर ने कहा कि इन मैनहोल ओवरफ्लो की बार-बार शिकायत करने के बाबजूद कोई सुनवाई नही हो पा रहीं हैं | अब हमने थक-हार कर सी०एस० विन्डों, उपायुक्त पलवल, जनस्वास्थ विभाग के आला अधिकारियों को लिखित में दिया हैं शायद कोई सुनवाई हो पाए लेकिन उमीदे ना के बराबर नजर आती हैं हसनपुर में जन स्वास्थ विभाग के कर्मचारियों के पास तो सीधा साधा बहाना हैं कि हमने अपने अधिकारियों बतला दिया हैं परन्तु उच्च अधिकारी फ़ोन उठाने से भी गुरेज करते हैं यदि गलती से उठा भी लिया तो आश्वासन के अलावा कुछ नहीं हो पाता | | सैडकी मौहल्ले वासीयों को विभाग के खिलाफ़ काफ़ी रोष व्याप्त हैं| उन्होंने विभाग के खिलाफ़ नारेबाजी भी की और कहा यदि सुनवाई नहीं हो पाती हैं तो वो आन्दोलन करने को मजबूर होंगे|

ग्रामीण अर्जून का कहना हैं इस गंदे पानी में पनपने वाले मच्छरों के कारण उसके बच्चें करीब एक महीने से बीमार पड़े हैं | इसी तरहा चौ० डाल चन्द ने कहा मैनहोल ओवरफ्लो होने से उनके घर के आगे निकलना मुश्किल हो गया हैं मुख्य दरवाजे के सामने इतनी गन्दगी हैं ना हम ठीक से निकल पाते हैं और बाहर से आने वाले लोग हमारे घर आने से भी कतराने लगे हैं|

ग्राम सरपंच सन्दीप मंगला का कहना है कि विभाग झूटे आश्वासनों के अलावा कोई कार्य करने को तैयार ही नहीं हैं | कनिष्ठ अभियन्ता दौलतराम से जब इस बाबत जानकारी ली तो उसने भी सिर्फ इतना भर कहा कि करता हूँ|

इस मौके पर अधिवक्ता रामबीर के अलावा मौहल्ला निवासी अर्जुन, प्रेमवती, अंगूरी, डा० राहुल, महेन्द्र, बीरू, सुरेश, सुन्हेरी, चौ० धर्मसिंह, चौ० डालचन्द, सोनू, लखन आदि काफ़ी संख्या में मौजूद रहें|

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।