जौनपुर ।मजदूरों से उनके घर लाने के लिए वसूले जा रहे पैसे। बङोदरा से 610 रूपये देकर जौनपुर आये हैं 1257 यात्री | 
May 8th, 2020 | Post by :- | 66 Views
जौनपुर। वडोदरा से चली स्पेशल ट्रेन शुक्रवार दोपहर में जौनपुर जंक्शन पर पहुंची। ट्रेन में पूर्वांचल के कई जिलों के कुल मिलाकर 1257 यात्री सवार थे। जौनपुर स्टेशन पर प्रशासन द्वारा सभी का टेस्ट किया गया और उन्हें चाय नास्ता कराने के बाद बसों के जरिये उनके जनपद भेज दिया गया। ट्रेन में सवार यात्रियों ने बताया कि उनसे ट्रेन में बैठने से पहले ही 610 रुपए लिए गए थे और रास्ते में सिर्फ पानी मिला। घर वापसी की खुशी उनके चेहरों पर साफ दिखाई पड़ रही थी।
गौरतलब हो कि कोरोना काल में अन्य प्रदेशों में फंसे लोगों को अपने घरों तक पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा ट्रेनें चलाई जा रही है। ट्रेन एक स्थान से प्रारंभ होकर एक निश्चित स्थान पर जा कर ही रुक रही है। ऐसे में जौनपुर जिला प्रशासन को सूचना मिली कि 8 मई को वडोदरा से 1257 यात्रियों को लेकर एक ट्रेन जौनपुर आ रही है जिसमें कई जिलों के लोग सवार है। सूचना मिलते ही जौनपुर जिला प्रशासन सक्रिय हुआ और जौनपुर स्टेशन पर तैयारियां की गई। प्लेटफार्म पर 1 मीटर की दूरी पर गोले बनाये गए। जैसे ही ट्रेन शुक्रवार दोपहर जौनपुर पहुंची तो एक एक डिब्बे में से यात्रियों को बाहर निकाला गया। प्लेटफार्म पर मौजूद डॉक्टरों की टीम ने सबका स्वास्थ्य परीक्षण किया।
डीएम दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि ट्रेन में पूर्वांचल के जिलों के कुल 1257 यात्री सवार है जिसमें जौनपुर के 729 लोग हैं। डीएम ने बताया कि सभी का जांच कराके जो स्वस्थ है उन्हें चाय नास्ता कराकर बसों द्वारा उनके जनपद भेजा जा रहा है और जौनपुर के लोगों को मोहम्मद हसन इंटर कॉलेज में क्वॉरेंटाइन में रखा जाएगा।
ट्रेन में यात्रा करने वाले लोगों ने बताया कि उन्होंने 1077 पर फोन कर अपने फंसे होने की जानकारी दी थी जिसके बाद उन्हें फोन आया और फिर उन्हें बताया गया कि कैसे ट्रेन मिलेगी। इस दौरान जब उन्हें स्टेशन ले जाने के लिए बस में बिठाया गया तभी उनसे 610 रुपए ले लिए गए थे। यात्रियों ने बताया कि ट्रेन में उन लोगों को कोई परेशानी नहीं हुई। फिलहाल जौनपुर में जिला प्रशासन द्वारा सभी को चाय नास्ता कराके बसों में भी नास्ते की व्यवस्थ के साथ उन्हें उनके जनपद के लिए भेज दिया गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।