विश्व रैड क्रॉस दिवस भारतीय रैड क्रॉस के 100 वर्ष पूर्ण होने पर भारत रैड क्रॉस शताब्दी वर्ष के रूप में मनाया गया|
May 8th, 2020 | Post by :- | 175 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :- रैड क्रॉस के संस्थापक सर् जीन हैनरी ड्यूना का जन्म 8 मई, 1828 में जेनेवा में हुआ था उनके जन्म दिवस के उपलक्ष्य में प्रति वर्ष 8 मई को विश्व रैड क्रॉस दिवस के रूप में अन्तराष्ट्रीय स्वयं सेवक के रुप में मनाया जाता है।

26 अक्टूबर, 1863 में रैड क्रॉस की स्थापना हुई थी जिसका मुख्य उद्देश्य रैड क्रॉस के स्वयं सेवकों के माध्यम से असहाय एवं पीड़ित मानवता की सहायता करना तय हुआ था। भारतीय रैड क्रॉस सोसाइटी की स्थापना पार्लियामेंट एक्ट 1920 के अंतर्गत अनुच्छेद XV के तहत हुई थी। इसी कड़ी में वर्ष 2020 में भारतीय रैड क्रॉस के 100 वर्ष पूर्ण होने पर पूरा भारत 100वीं शताब्दी के रूप में मना रहा है।

इस वर्ष भारतीय रैड क्रॉस सोसाइटी ने विश्व रैड क्रॉस मनाने के लिए ‘कीप क्लेपिंग फ़ॉर वालंटियर्स’ थीम दिया है। जैसा कि वर्तमान समय में पूरा विश्व कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहा है। जिसके चलते कोरोना के संक्रमण  से बचाव हेतु  पूरे भारत वर्ष में लॉकडाउन लागू है। वर्तमान वर्ष  में कोविड-19 के दौरान जिला रैड क्रॉस सोसाइटी पलवल ने जिला प्रशासन तथा हरियाणा राज्य शाखा, चंडीगढ़ के मार्गदर्शन में जिले की सामाजिक संस्थाओं, स्वयं सेवकों के सहयोग से असहाय एवं पीड़ित  मानवता की सहायता हेतु 1200 पैकेट्स सूखा राशन, 12994 पैकेट पका हुआ खाना, संक्रमण से बचाव हेतु 5250 मास्क, 650 सेनिटाइजर, 650 जोड़े ग्लव्ज, वितरित किये।

इस कार्य में 19 जिले के सामाजिक संस्थाओं के सदस्यों, ग्रामीण छेत्रों के 250 स्वयं सेवकों जिला रैड क्रॉस सोसाइटी पलवल के साथ कंधे से कंधा मिलाकर समाज की है। इसके साथ ही साथ सामाजिक संस्थाओं के सदस्यों, युवाओं, रैड क्रॉस के स्वयं सेवकों के सहयोग से इस संस्था ने 20 मार्च, 2020 से 8 मई, 2020 तक 49 दिनों में 50 लघु रक्तदान शिविरों का आयोजन इस उद्देश्य से कराया गया कि रक्त के अभाव में थैलेसिमिक बच्चों, घातक बीमारियों के पीड़ितों, गर्भवती महिलाओं की जान न जाये।

इन शिविरों में 1001 एकत्रित इकाइयां एकत्रित कराई गई। इस संस्था के साथ अधिकतर सामाजिक संस्थाओं के सदस्यों तथा स्वयं सेवकों ने अपने आपको असहाय, जरुरतमंद समाज को समर्पित भाव से सेवा देने हेतु अपने आप को रैड क्रॉस के साथ खड़े होकर एक मिशाल कायम की। उनके इस जूनून को देखते हुए, महामहिम राज्यपाल हरियाणा-एवं-अध्यक्ष, सुषमा गुप्ता वाईस चेयरमैन, डी०आर० शर्मा महा सचिव, भारतीय रैड क्रॉस सोसाइटी हरियाणा राज्य शाखा, चंडीगढ़ तथा नरेश नरवाल उपायुक्त एवं अध्यक्ष, डॉक्टर ब्रह्मदीप सिविल सर्जन एवं उपाध्यक्ष विकास कुमार, सचिव जिला रैड क्रॉस सोसाइटी पलवल ने सराहना की है। इसके अतिरिक्त रैड क्रॉस के प्रशिक्षित स्वयं सेवकों ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु लक्षणों, बचाव के तरीकों के बारे में भीड़ वाले स्थानों जैसे बैंक, किरयाना स्टोर, मार्किट, अनाज मंडी, सब्जी मंडी, सरकारी अस्पताल, लंगर स्थान पर पहुचने वाले लगभग 103600 लोगो को सोशल डिस्टनसिंग के लिए जागरूक किया|

इसके अलावा लगभग 24000 जन सामान्य को अपने स्वास्थ्य तथा पोष्टिक खान पान के लिए जागरूक किया।  शुक्रवार को सुबह की भोर में रैड क्रॉस के संस्थापक सर् जीन हैनरी ड्यूना की तस्वीर पर माल्यार्पण, पुष्प अर्पित करते हुए अशोक कुमार जिला शिक्षा अधिकारी पलवल ने बतौर मुख्य अतिथि दीप प्रज्वलित करते हुए विश्व रैड क्रॉस दिवस मनाया। उसके साथ ही आगरा चौक पर रैड के स्वयं सेवकों तथा पुलिस कर्मियों को पुष्प वर्षा करते हुए उनके सम्मान में तालिया बजाई गई ।

उसके उपरांत जिले की सामाजिक संस्थाओं के सभी स्वयं सेवकों रोटरी क्लब पलवल संस्कार, जिला केमिस्ट एसोसिएशन, बीके सीनियर सेकेंडरी स्कूल, मानव सेवा समिति, कौशिक मेडिकल एजेंसी, रोटरी क्लब पलवल सिटी, उपकार मंडल हसनपुर, सेबिज़ ट्रैनिंग सेन्टर, भारत स्काउट्स एंड गाइड, अनुभूति सेवा समिति, हसनपुर, गुरुद्वारा सिंह सभा पलवल शहर, गुरुद्वारा सिंह सभा, पलवल, राधा स्वामी सत्संग बीज, आटोह, गीता भवन ट्रस्ट, जान स्वास्थ्य एवं शिक्षा समिति, लाइफ लाइन चेरिटेबल सोसाइटी युथ डेवलपमेंट सोसाइटी, पृथला, गांव छज्जुनगर, गांव बहरौला के मानव कल्याणकारी कार्यों के लिए प्रसंसा पत्र दिए गए।

इस अवसर पर एक रक्तदान शिविर का आयोजन भी किया गया जिसमे महेश मलिक ने 30वीं बार रक्तदान किया इस शिविर में 51 रक्तदाताओं ने रक्तदान किया। आज इस आयोजन में अहम भूमिका विक्रम सिंह यात्री, डॉक्टर प्रशांत गुप्ता, विनोद जिंदल, संजय कौशिक, महेश मालिक, अंजली भयाना, नीतू सिंह, शरद पाराशर, उषा देवी, भोजपाल सहरावत, उमा शंकर, सतबीर सिंह, सूर्यकांत, पवन, हरबंश आदि की रही।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।