कोरोना वायरस से बचाएगी आरोग्य सेतू एप ।
May 7th, 2020 | Post by :- | 147 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। कोरोना संक्रमण के आपके आसपास कितना जोखिम है, इसका अलर्ट आरोग्य सेतू एप के जरिये मिल रहा है। घर बैठे ही इस एप पर स्वास्थ्य जांच का लाभ मिल रहा है। प्रशासन की ओर से चलाए जा रहे जागरूकता कार्यक्रम के तहत जिले में अब तक 1 लाख 66 हजार 192 लोगों ने डाउनलोड किया है जिनके पास हर रोज जोखिम अलर्ट पहुंच रहा है और उन्हें स्टे सेफ कोविड-19 का मैसेज आता है।

एप ब्लूटूथ और जीपीएस से चलता है। एंड्रॉयड और आई-फोन दोनों तरह के स्मार्टफोन पर इसे डाउनलोड कर अपने आसपास के क्षेत्र की जानकारी आसानी मिलती है। यह खास एप आसपास मौजूद कोरोना पॉजिटिव लोगों के बारे में पता लगाने में मदद कर रहा है। इसलिए अधिक से अधिक लोग इस एप को डाउनलोड कर कोरोना से सम्बन्धित जानकारी प्राप्त कर सकते है।

आरोग्य सेतू एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। एप रजिस्टर करते हुए आपको व्यक्तिगत जानकारी दर्ज करनी होती है। एप दावा करता है कि डेटा केवल भारत सरकार के साथ शेयर किया जाएगा। इसमें थर्ड पार्टी शामिल नहीं है। यह एप हिंदी और अंगे्रजी सहित 11 भाषाओं में काम करता है। एप आपको बताता है कि क्या आप उच्च जोखिम वाले क्षेत्र में हैं या नहीं।

एप सक्रिय तौर पर सटीकता से काम कर सके इसलिए इसे हर समय लोकेशन एक्सेस देने और ब्लूटूथ ऑन रखने की जरूरत पड़ती है। यदि आप जोखिम या उच्च जोखिम वाले क्षेत्र में हैं तो एप आपको परीक्षण कराने जाने के लिए निकटतम परीक्षण केंद्र में अप्वायमेंट के लिए टोल फ्री नंबर 1075 पर कॉल करने के लिए सुझाव देगा।

डीसी निशांत कुमार यादव ने बताया कि कोरोना सेतू एप आपकी ट्रैवल हिस्ट्री पर नजर रखेगा। इंस्टाल करते समय यह आपके फोन के नंबर, ब्लूटूथ तथा लोकेशन का एक्सेस मांगता है। यह एप यूजर के डाटा को इंक्रीप्शन के आधार पर उसके ही फोन में सेव करेगा। यूजर का डाटा कोई यूज नहीं कर सकेगा तथा सेफ रहेगा।

यदि आप किसी कोरोना आशंकित मरीज के संपर्क में आ जाते हैं तथा उस संक्रमित व्यक्ति ने भी अपने फोन में आरोग्य सेतू एप्प इंस्टाल किया है तो ऐसे में उस व्यक्ति का टेस्ट पॉजिटिव आने पर आपके फोन में इंस्टाल किया गया आरोग्य एप आपको नोटिफिकेशन के माध्यम से सतर्क कर देगा कि आपको भी कोरोना संक्रमण का खतरा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।