क्वारेन्टाईन में आने वाले व्यक्तियों को किसी प्रकार की नहीं होनी चाहिए कोई असुविधा-उपायुक्त निशांत कुमार यादव।
May 6th, 2020 | Post by :- | 36 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। बाहर से, हाई रिस्क वाली जगहों से आने वाले, कोरोना संदिग्ध तथा रैंडम सैम्पलिंग वालों की नेगेटिव रिपोर्ट आने तक उन्हें पृथक रखने के लिए, जिला के सैनिक स्कूल कुंजपुरा, दीनबंधु चौधरी छोटू राम जाट धर्मशाला तथा रोड़ भवन में बनाए गए क्वारेन्टाईन सेंटरों का उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बुधवार को अपरान्ह सभी जगह जाकर निरीक्षण किया और जिला प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उनके साथ अतिरिक्त उपायुक्त अनिश यादव भी थे।

बता दें कि कोरोना के प्रकोप की शुरूआत में ही करनाल के सैनिक स्कूल में जिला का सबसे पहला क्वारेन्टाईन सेंटर बनाया गया था और बीती 22 मार्च को इसने अपना काम शुरू कर दिया था। तब से लेकर अब तक यहां 24 घण्टे एक डॉक्टर और एक अधिकारी के अतिरिक्त फार्मासिस्ट, काउंसलर, सेनेटरी सुपरवाईजर व एक वार्ड ब्वाय के अतिरिक्त दो एम्बूलेंस कार्यरत हैं। पिछले करीब डेढ महीने में इस सेंटर में करीब 250 व्यक्तियों को क्वारेन्टाईन किया गया और जांच व रिपोर्ट के बाद उन्हें उनके घर भेज दिया गया।

हाई रिस्क वाली जगहों या संदिग्ध व्यक्तियों को 14 दिन क्वारेन्टाईन करके रखा जाता है, जबकि रैंडम सैम्पलिंग वालोंं को अगले दिन ही यानि नेगेटिव रिपोर्ट आने के बाद घर भेज दिया जाता है। उपायुक्त ने निरीक्षण के दौरान यहां ड्यूटी दे रहे मैडिकल ऑफिसर डॉ. संजीव चांदना व पंचायती राज विभाग के एसडीओ गौरव भारद्वाज से बात कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। क्वारेन्टाईन रखे जाने वाले व्यक्तियों के खाने, सफाई, मास्क व सैनेटाईजेशन बारे पूछा और क्वारेन्टाईन स्थल की स्वयं जांच कर संतुष्टी की।

उन्होंने निर्देश दिए कि सभी व्यवस्थाएं अच्छे तरीके से हों, ताकि यहां रखे जाने वालों को यह ना लगे कि वे किसी तरह की कठिनाई में हैं। उन्होंने पैनल में रखे गए डॉक्टरों की विजिट की भी जानकारी ली। डॉक्टर संजीव चांदना ने उपायुक्त को बताया कि वर्तमान में यहां 25 लोग क्वारेन्टाईन हैं, बाकि सब नेगेटिव रिपोर्ट के बाद भेजे जा चुके हैं। अब ज्यादातर रैंडम सैम्पलिंग के व्यक्ति यहां आ रहे हैं।

इसके पश्चात उपायुक्त ने सैक्टर-12 स्थित जाट धर्मशाला के द्वितीय खण्ड दीनबंधु चौधरी छोटू राम भवन में बनाए गए क्वारेन्टाईन सेंटर का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस मौके पर उन्होंने यहां की जिम्मेदारी संभाल रहे पीडब्यूडी के एसडीओ अमित कौशिक से, रहने, खाने, सफाई व सैनीटाईजेशन की जानकारी ली। उन्होंने बताया कि कल तक यहां 26 लोग क्वारेन्टाईन थे, जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद, आज रिलीज़ किया जा रहा है।

इनमें लगभग फल-सब्जी बेचने वाले रेहड़ी चालक व पुलिस कर्मचारी इत्यादि जिनकी रैंडम सैम्पलिंग हुई थी, शामिल थे। उपायुक्त ने एसडीओ अमित कौशिक को निर्देश दिए कि व्यवस्थाओं के लिए जिन-जिन की जिम्मेदारी लगाई गई है, उन पर ओवरआल निगरानी रखें, सभी इंतजाम अच्छे तरीके से बने रहने चाहिए। जाट धर्मशाला के बाद उपायुक्त ने शहर के कर्ण पार्क के ऑपोजिट रोड़ भवन में बनाए गए क्वारेन्टाईन सेंटर में भी व्यवस्थाओं का जायजा लिया, स्वयं निरीक्षण कर संतुष्टी जाहिर की। रोड धर्मशाला में पीडब्ल्यूडी के जूनियर इंजीनियर कुलदीप सिंह को जिम्मेदारी दी गई है।

उपायुक्त के अनुसार बीती 5 मई से इस क्वारेन्टाईन सेंटर को चालू किया गया था, अब तक यहां 11 लोगों को क्वारेन्टाईन किया जा चुका है, बुधवार को 9 व्यक्तियों की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उनकी छुट्टी कर दी गई है। लगभग सभी व्यक्ति रैंडम सैम्पलिंग के हैं। उपायुक्त ने रोड धर्मशाला में भी ड्यूटी कर रहे जेई व उनके सहायकों को निर्देश दिए कि क्वारेन्टाईन में आने वाले व्यक्तियों को किसी प्रकार की कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए, सभी लोग ड्यूटी पर मुस्तैद रहें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।