पी जोशी वेलफेयर सोसाइटी को मुख्यमंत्री ने पत्र लिखकर सेवा कार्य को सराहा । 42 वें दिन भी लगातार जारी है सेवा
May 6th, 2020 | Post by :- | 64 Views
बीकानेर  (रामलाल लावा  ) कोरोना आपदा में जन हितार्थ 26 मार्च से जारी भोजन व्यवस्था आज 42 वे दिन भी जारी है।आज संस्था के लिए गर्व की बात है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पी जोशी वेलफेयर सोसाइटी द्वारा चलाए जा रहे भोजन व्यवस्था को सराया और पत्र लिख कर संस्था अध्यक्ष तेजकरण हर्ष को उनके जन्मदिन पर भोजन वितरण की प्रशंसा की। संस्था के अध्यक्ष तेजकरण हर्ष ने बताया कि यह हमारे लिए बड़े गर्व की बात है कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी ने हमारी संस्था के कार्य की सराहना की इससे हमे और बल मिलेग एवं हमारा उत्साह वरदन होगा जिससे हम और दोगुना स्पीड से कार्य करेंगे। साथ ही उन्होने कहा कि मैं मेरे बड़े भाई शिव शंकर हर्ष, प्रेम रतन जोशी व नर्सिंग दास व्यास का आभारी जिनके देखरेख के दम पर ही यह संभव हो सका। वही में रामलाल सुथार, बीकाजी संस्थान के दिपक अग्रवाल, करन सिंह बैद, डा मानमल बेगानी, डा बी के गुप्ता, भंवर लाल छंगाणी सहित सभी संस्था के आधार स्तंभो का आभारी हू जिन्होंने मेरा हर समय सहयोग देकर उत्साह वर्धन किया। हर्ष ने आगे बताया कि सेवा लोकडाउन 3 यानी 17 मार्च तक जारी रहेगी। संस्था द्वारा जो 4200 भोजन पैकेट दोनों वक्त बनाकर वितरित किए जा रहे हैं एव 35 जने लगातार सेवा दे रहे हैं वह निरंतर यथावत जारी रहेगी । हर्ष ने कहा कि सेवा कार्य मैं होलसेल भण्डार के उपाध्यक्ष शिव शंकर हर्ष, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रेम रतन जोशी व कांग्रेस सेवा दल के पूर्व अध्यक्ष नृसिंह व्यास के निरीक्षण में सुचारु रुप से निरंतर चल रहा है। साथ ही महिला कांग्रेस नेत्री आशा स्वामी भी निरंतर इस सेवा कार्य मैं अपना सहयोग दे रही है । वहीं शिव शंकर हर्ष ने बताया कि 7 मार्च को सेवा दल के संस्थापक डा न स हर्दिकर का जन्मदिन है इस उपलक्ष्य पर बीकानेर कांग्रेस सेवा दल के कार्यकर्ता भोजनशाला में सेवादार की भूमिका निभाकर डा हर्दिकर को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। इस बाबत कार्यकर्ताओं की एक मीटिंग रखकर कार्यक्रम व समय तैय किया गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।