पीटीईटी 2020 के आवेदनों में त्रुटि सुधार की तिथि 10 मई 2020 तक बढ़ाई गई । उच्च शिक्षा मंत्री ने सुखी राशन सामग्री सहित अन्य सामग्री की गाड़ी को हरी झंडी दिखाई
May 6th, 2020 | Post by :- | 56 Views
बीकानेर  ( रामलाल लावा  ) समन्वयक, पीटीईटी कार्यालय द्वारा गत वर्ष पीटीईटी-2019 की राज्य स्तरीय परीक्षा के सफल संचालन के उपरान्त राज्य सरकार को शुद्ध बचत के रूप में लगभग तीस करोड की राशि मिलने की संभावना है।  इस राशि में से सोलह करोड़ रूपये पूर्व में राजकोष में जमा करवाये जा चुके हैं।  शेष राशि का अन्तिम हिसाब तैयार कर शीघ्र ही भिजवाया जा रहा है।
डूंगर काॅलेज के प्राचार्य की उपस्थिति में समन्वयक मण्डल की बैठक में निर्णय लिया गया कि बचत राशि में से राजकीय डूँगर महाविद्यालय, बीकानेर के हिस्से की राशि लगभग पन्द्रह करोड़ में से पांच करोड़ की राशि कोविड-2019 संकट के चलते मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करवाई जावे। इस हेतु सहमति पत्र राज्य सरकार को उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी के माध्यम से प्रेषित किया गया है।
बीकानेर में कोविड-2019 संकट की घडी में बुधवार को भंवरसिंह भाटी उच्च शिक्षा मंत्री ने पीटीईटी-2020 कार्यालय की प्रेरणा से आई.सी.आई.सी.आई. बैंक, रानी बाजार द्वारा उपलब्ध करवाये गये सूखी राशन सामग्री के पैकेट, सेनेटाईजर, मास्क जरूरतमन्दों को वितरण हेतु हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया।  इस अवसर पर मंत्री ने बैंक का आभार जताया।
कार्यक्रम में डाॅ.सतीश कौशिक, प्राचार्य राजकीय डँूगर महाविद्यालय, डाॅ.जी.पी.सिंह, समन्वयक पीटीईटी, डाॅ.रविन्द्र मंगल, सह समन्वयक तथा डाॅ.राकेश हर्ष, सहायक निदेशक, काॅलेज शिक्षा सहित कई अधिकारीगण उपस्थित थे।
पीटीईटी समन्वयक डाॅ.जी.पी.सिंह ने बताया कि पीटीईटी-2020 के आवेदन पत्रों में आॅनलाईन त्रुटि सुधार के लिए 10 मई 2020 तक बढा दी है।  साथ ही समन्वयक ने बताया कि लाॅकडाऊन की समस्या को देखते हुए आवेदन पत्र भरने से वंचित रह गये अभ्यर्थियों को लाॅकडाऊन की समाप्ति के पश्चात् एक अवसर और दिया जायेगा।  इस हेतु छात्र नियमित रूप से पीटीईटी-2020 की अधिकृत वैबसाईट का अवलोकन करते रहें।
——

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।