कोरोना वायरस की आड़ में डीजल और पेट्रोल की कीमतों पर बैट बढ़ाने का निर्णय पूर्णतया अव्यवहारिक है :अजय महाजन
May 6th, 2020 | Post by :- | 253 Views

मुकेश सरमाल ( इंदौरा )

प्रदेश सरकार द्वारा कोरोना वायरस की आड़ में डीजल और पेट्रोल की कीमतों पर बैट बढ़ाने का निर्णय पूर्णतया अव्यवहारिक है। संकट से झूझ रही जनता पर थोपा जा रहा यह फैसला कतई तर्कसंगत नही है जिसका कांग्रेस पार्टी घोर विरोध करती है ।

जिला कांग्रेस अध्यक्ष अजय महाजन ने चेताया कि लाकडाउन के चलते प्रदेश की आम जनता , किसान , मजदूर , व्यापारी , छोटे उद्यमी सहित हर वर्ग पहले ही भारी परेशानियां झेलते हुए बेहाल हैं । उन्हें अपने भविष्य की चिंता सता रही है ऐसे में प्रदेश सरकार द्वारा पेट्रोल और डीजल पर बैट बढ़ाने से महंगाई को और आग लगेगी जिसका सीधा असर आम जनता के साथ साथ हर वर्ग पर पड़ेगा ।

प्रदेश सरकार को इस पर गम्भीरता से विचार करने की आवश्यकता है । महाजन ने कहा कि प्रदेश में लाकडाउन के चलते न्यानवे फीसदी खड़े वाहनों के चलते पेट्रोल और डीजल की भारी बचत हुई लेकिन  डीजल और पेट्रोल पर बैट लगाकर महंगाई को और अधिक बढ़ावा देने वाला निर्णय आमजन की समझ से परे है ।

महाजन ने कहा कि कोरोना संकट के चलते कांग्रेस पार्टी सरकार के हर निर्णय पर साथ खड़ी होकर चल रही थी लेकिन पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढाने वाले इस जनविरोधी निर्णय पर कांग्रेस चुप नही बैठेगी और एक जिम्मेदार विपक्ष के नाते सरकार के इस निर्णय से पूरी तरह असहमत है ।

उन्होंने कहा कि कोविड 19 और मौसम की मार से बुरी तरह त्रस्त हुए प्रदेश के किसान और बागवान अपनी फसलों को समेटने में जुटे हुए हैं और ऐसे में कीमतों में वृद्वि होना किसी भी वर्ग के हित मे नही हैं । महाजन ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार ने अपने चन्द औद्योगिक मित्रों का 68 हजार करोड़ कर्ज माफ कर दिया लेकिन जब महामारी के चलते देश की आम जनता की सुध लेने की बात आई तो उन्हें अपने हाल पर छोड़कर पल्ला झाड़कर एक धेले की राहत नही दी जा रही है । बेहतर होता कि केंद्र व प्रदेश सरकार कोविड 19 के संकट से झूझ रहे किसान , मजदूर , छोटे उद्यमी , दुकानदार और मध्यमवर्ग के लोगों के हितों को ध्यान में रखकर हुए उनके लिये कोई बिशेष राहत पैकेज लेकर आती लेकिन कोरोना की आड़ में भी केंद्र व प्रदेश सरकार हर वर्ग का खून चूसने पर ही तुली हुई है ।

महाजन ने कहा कि पीएम और सीएम राहत कोष में अरबों रुपये एकत्रित हुए जिन्हें जनता की भलाई के लिए लगाकर राहत देने का काम होना चाहिए बावजूद इसके संकट की घड़ी में फंसी जनता की जा रहे उपेक्षा और अव्यवहारिक फैसले केंद्र व प्रदेश सरकार की करनी और कथनी पर सवालिया निशान लगा रहे हैं ।

उन्होंने कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के उस फैसले की जमकर सराहना की जिसमे राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा विभिन्न प्रदेशों में फंसे मजदूरों को अपने घरों तक पहुंचने के लिए पूरा खर्च कांग्रेस पार्टी द्वारा उठाने का फैसला लिया है। महाजन ने कहा कि जो काम सत्ता में बैठी सरकार को करना चाहिए था वह काम विपक्ष की नेता द्वारा किया जा रहा है देशभक्ति का दम भरने वाले सत्ताधारी लोगों को इससे सीख लेनी चाहिए ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।