हिसार में 40 दिन बाद खुला बाजार, भीड़ बढ़ी तो 2 बजे ही प्रशाशन ने कराया बंद
May 5th, 2020 | Post by :- | 47 Views

हिसार( लवकेश कथूरिया) आज से लॉकडाउन पार्ट तीन शुरू हुआ है। जोन के हिसाब से हिसार में बहुत से क्षेत्रों में छूट दी गई है। हिसार ओरेंज जोन में है इसी के चलते सोमवार से बाजार खोले गए। सुबह ही कुछ दुकानदारों ने तो आठ बजे ही दुकानें खाेल लीं। वहीं अन्‍य दुकानें भी धीरे धीरे खोलीं गईं। 40 दिन के बाद बाजार खुलने से लोगों ने राहत की सांस ली, मगर दोपहर होते होते बाजार में इतनी भीड़ हो गई कि 2 बजे ही बाजार को बंद करना पड़ गया।  भीड़ से निपटना पुलिस के लिए भी बड़ी चुनौती बन गया। अब बाजार खोलने क लिए अब नई नीति के तहत काम किया जाएगा। मार्केट एसोसिएशन के लोगों ने बैठक कर कई फैसले लिए हैं, इसके तहत सबसे मुख्‍य फैसला ये लिया है कि दुकानें दोपहर 2 बजे तक ही खुलेंगी। भीड़ के कारण वायरस न फैल जाए इसके लिए कई एहतियात बरतने होंगे। आगामी रणनीति को लेकर हो सकता है कि डीसी से भी चर्चा की जाए कि कैसे व्‍यवस्‍था बन सकेगी। आपको बता देे नए नियमों के अनुसार शहर व ग्रामीण  क्षेत्रो में स्थित दुकानें सोमवार से खुली रहेंगी। इन प्रतिष्ठानों को खोलने के दौरान भीड़ एकत्रित  नही होने देनी है तो लोगों के हाथों के सैनिटाइज भी कराना है। जो दुकानें खुली रहेंगी, उनमें थोक व फुटकर दोनों प्रकार की दुकानें शामिल हैं। इधर राजगुरु मार्केट वेलफेयर एसोसिएशन के सचिव सुरेंद्र बजाज ने कहा कि कोरोना से बचाव को लेकर मार्केट में दुकान खोलने को किस प्रकार से एहतियात रखनी है, इसके लिए पुलिस अधिकारियों के साथ सोमवार सुबह पंजाबी धर्मशाला में बैठक बुलाई थी, जिसमें कई फैसले लिए गए हैं।                               इसके साथ ही जिले में 17 मई तक प्रशासन ने धारा 144 लागू की है। वहीं चार मई से 17 मई तक सायं 7 से सुबह 7 बजे तक आमजन का अनावश्यक रूप से घर से बाहर निकलना प्रतिबंधित रहेगा और कोई भी अनावश्यक गतिविधियां नहीं की जा सकेगी। प्रशासन ने स्पष्ट किया है कि अगर कोई व्यक्ति इन निर्देशों की उल्लंघना करता है तो उसके खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 और भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जा सकती है। इन सभी छूट के साथ एक शर्त है कि प्रतिष्ठानों पर शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करना होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।