स्कूल इंचार्ज ने डीडी पावर का किया गलत इस्तेमाल , तीन साल रोके रखी एपी एआर रिपोर्ट
September 3rd, 2019 | Post by :- | 89 Views

अंबाला , मुलाना ( गुरप्रीत सिंह मुल्तानी ) ।
बराड़ा की रहने वाली एक महिला ने बीईओ बराड़ा को करीब दो माह पहले एक शिकायत दी थी कि घेलड़ी गांव स्थित सरकारी स्कूल का हैडमास्टर जिसे डीडीपावर मिली हुई है। उसके पति सुनील चावला जो कि उसी स्कूल में करीब छह माह पहले कार्यरत्त थे। उनको मनफूल धीमान अध्यापक डीडीपावर मिलने के कारण बहुत तंग करता है। जिसने सुनील चावला की तीन साल की एपीएआर व एलटीसी रोक रखी है। जबकि वह एपीएआर एक दिन  के लिए भी नही रोक सकता। इसके बार में बीईओ बराड़ा को शिकायत दी थी लेकिनककोई कार्रवाई नही हुई। मंगवार को वह फिर बीईओ बराड़ा राम प्रकाश को मिलने गई लेकिन वह वहां पर नही मिले। प्रीति चावाला ने बताया कि उसके पति सुनील चावला को अध्यापक मनफूल परेशान कर रह है। उसे डीडीपावर के कारण परेशान किया जा रहा है। प्रीति ने बताया कि मनफूल व उसके पति तंदवाल गांव के सरकारी स्कूल में भी बदल गए। लेकिन जब तक डीडीपावर मनफूल धीमान के पास ही है। उन्होंने आरोप लगाया कि मनफूल धीमान उनको अक्सर कहता है कि मेरे पास पावर है। वह उनकी सर्विस बुक में जो चाहे लिख सकता है।
क्या कहते हैं, अध्यापक सुनील चावला:-
बीईओ बराड़ा द्वारा मेरा बार बार स्कूल चेंज कर मुझे परेशान किया जा रहा है। सक्षम योजना के तहत पहले मुझे जीपीएस तंदवाल ओर अब मेरा बिना बताए मेरा तबादला जीपीएस गांव माजरा में कर दिया गया है जबकि मेरा सेंटर अब तंदवाल है। अब भी आर्डर जीपीएस घेलड़ी में दिखाए जा रहे हैं। इसके इलावा मेरी धर्म पत्नी ने 26 जुलाई 2019 को एक शिकायत बीईओ बराड़ा को दी लेकिन कोई फायदा नही हुआ। मनफू ल धीमान ने डीडीपावर का गल्त इस्तेमाल कर मेरी एपीएआर (वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट) रोक रखी है। जिस कारण मैं व मेरी पत्नी तनाव में है।

अध्यापक  मनफूल धीमान ने बताया कि उनके पास जब डीडीपावर थी। तो उस समय अध्यापक सुनील की एपीएआर नही रोकी न ही एलटीसी रोकी है। इस का केस मैने खंड़ शिक्षा अधिकारी कार्यालय में भेज दी है। अगर वह चाहे तो दोबारा से लिखवा सकता है। वह मेरे पास आ सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।