जिले में अब तक 55 लाख 31 हजार 110 क्विंटल गेंहू की हुई आवक- उपायुक्त निशांत कुमार यादव।
May 3rd, 2020 | Post by :- | 37 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बताया कि जिला में गेंहू की खरीद का कार्य जोरों पर चल रहा है। जिला प्रशासन द्वारा खरीद के सभी आवश्यक प्रबंध पहले से ही पूरे कर लिए गए थे। गत दिनों तक जिले में 29135 किसानों की 55 लाख 31 हजार 110 क्विंटल गेंहू की खरीद विभिन्न परचेज सेंटरों व मंडियों में की गई। खरीदी गई गेंहू का उठान में तुरंत करवाने के आदेश खरीद एजेंसी को दिए गए है।

उपायुक्त ने बताया कि गेंहू की खरीद का कार्य जिले में 20 अप्रैल से 173 मंडी व परचेज सेंटरों पर शुरू कर दिया गया था। अब तक 29135 किसानों की 55 लाख 31 हजार 110 क्विंटल गेंहू मंडियों में आई, जिससे सरकारी खरीद एजेंयिों द्वारा खरीदा गया। गेहूं का खरीद कार्य सुचारू रूप से चल रहा है।

उन्होंने बताया कि मार्किट कमेटी की रिपोर्ट के अनुसार असंध में 5430 किसानों से 10 लाख 60 हजार 57 क्विंटल, नीलोखेड़ी में 927 किसानों से 93 हजार 632 क्विंटल, निसिंग में 3898 किसानों से 7 लाख 84 हजार 341 क्विंटल, इंद्री में 3110 किसानों से 4 लाख 78 हजार 317 क्विंटल, घरौंडा में 3011 किसानों से 6 लाख 77 हजार 788 क्विंटल, कुंजपुरा मार्किट कमेटी में 1799 किसानों से 2 लाख 40 हजार 562 क्विंटल, तरावड़ी में 3245 किसानों से 6 लाख 39 हजार 559 क्विंटल, करनाल में 3840 किसानों से 7 लाख 51 हजार 778 क्विंटल, निगदू मार्किट कमेटी 2440 किसानों से 4 लाख 66 हजार 583 क्विंटल तथा जुंडला मार्किट कमेटी में 1435 किसानों से 3 लाख 38 हजार 513 क्विंटल गेंहू की खरीद की गई।

उपायुक्त ने अपील की कि वे मंडी व परचेज सेंटर पर लॉकडाउन व सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखें। बिना मास्क के मंडी में आने की अनुमति नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार और प्रशासन द्वारा दी गई हिदायतों का पालन करें। जो भी किसान मंडी में आए, वह अपने क्रमानुसार ही आएं ताकि समय पर उनकी फसल की खरीद हो सके।

उन्होंने किसानों से यह भी अनुरोध किया कि वह गेंहू के फाने ना जलाएं बल्कि उसका भुसा बनवाएं। फाने जलाने से ना केवल वातावरण दुषित होता है बल्कि भूमि की उपजाऊ शक्ति भी कम होती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।