कोरोना की वजह से एक व्यक्ति को बीस साल बाद अपना परिवार से मिला, बीस साल से साधु बन कर मंदिरों में रह रहा था, विदेश से बेटे ने किया कुरुक्षेत्र के राधा स्वामी सत्संग का आभार
May 3rd, 2020 | Post by :- | 86 Views

कुरुक्षेत्र, ( सुरेशपाल सिंहमार )    ।     कोरोना वायरस से बचाव के लिए लॉकडाउन के चलते समाज में कुछ अच्छा भी हो रहा है। ऐसी ही एक घटना कुरुक्षेत्र के उमरी रोड़ पर राधास्वामी सत्संग घर सेंटर नंबर वन में हुई है।

राधा स्वामी सत्संग घर बीस साल से साधु बने एक व्यक्ति को उसके परिवार को मिलाने का माध्यम बना। उल्लेखनीय है कि लॉकडाउन में पिछले करीब एक महीने से भी अधिक समय से करीब सौ साधुओं को आश्रय दिया हुआ है। राधा स्वामी सत्संग घर में सौ साधुओं की सेवादार निस्वार्थ भाव से सेवा में जुटे हुए हैं। सत्संग घर में पता चला कि प्रशासन द्वारा लॉक डाउन के कारण ठहराए गए साधुओं में से एक आश्रय लेने वाला साधु, जिसका नाम छोटू राम निवासी गांव पंजोखरा का रहने वाला है। जो करीब 20 साल पहले बड़े पुत्र से किसी कारणवंश नाराजगी के अपना घर छोड़ कर काफी स्थानों पर घूम कर गंगानगर (राजस्थान) एवं सिरसा इत्यादि स्थानों पर मंदिरों के बाद अब कुरुक्षेत्र के ब्रह्मसरोवर पर रह रहा था। जिसे लॉकडाउन के कारण राधास्वामी सत्संग घर ठहराया हुआ था तो ड्यूटी पर तैनात एक पुलिस कर्मचारी द्वारा पहचान लिया गया। पुलिस कर्मचारी सुभाष चन्द (ASI) ने सेवादारों को बताया कि आश्रय लेने वाला साधु किसी समय गांव का मौजिज व्यक्ति भी रह चुका है। ऐसे में पुलिसकर्मी द्वारा आश्रय लेने वाले साधु छोटू राम के बेटे को जो कि स्पेन में रह रहा है का फोन नम्बर मिला। जिसे राधा स्वामी सत्संग घर के सेवादारों द्वारा वीडियो कॉल की गई व बेटे की अपने पिता से बात करवाई। बेटे का अपने पिता को 20 वर्षों बाद देख व बात करके खुशी का ठिकाना न रहा।

स्पेन में रह रहे बेटे ने राधास्वामी सत्संगघर कुरुक्षेत्र-1 का हाथ जोड़ कर धन्यवाद किया तथा प्रार्थना की कि उनके पिता को उनके घर जो कि अब पानीपत में है, पहुंचा दिया जाए। जिसके लिए जो भी कागजी कार्यवाही होगी वह पूरा करने को तैयार है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।