कोरोना वैश्विक महामारी के मद्देनजर विद्यार्थी भी अपनी कलाकृतियों से समाज में फैला रहे हैं जागरूकता
May 3rd, 2020 | Post by :- | 192 Views

कुरुक्षेत्र, ( सुरेशपाल सिंहमार )    ।             कोरोना नामक वैश्विक महामारी से आज सम्पूर्ण विश्व चिंतित है तथा कोरोना के संक्रमण को रोकने के भरसक प्रयास किए जा रहे हैं। भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सभी सरकारी व गैर सरकारी संगठन जागरूकता अभियान चला रहे हैं ताकि समाज में सामाजिक दूरी व एकांतवास की भावना का समावेश हो सके। लोगों में कोरोना वायरस के प्रति जागृति उत्पन्न हो इसी उद्देश्य से छोटे छोटे बच्चे भी सलोगनों, पोस्टर व रंगोली इत्यादि बनाकर समाज में कोरोना वायरस के प्रति जागरूकता फैला रहे हैं।

राजकीय वरिष्ठ माद्यमिक विद्यालय के जीवविज्ञान प्राध्यापक डॉ तरसेम कौशिक ने बताया कि विद्यार्थी भी इस वैश्विक महामारी में कोरोना योद्धाओं की भाँति ही कोरोना संकट से संबंधित रचनात्मक पोस्टर, पेंटिंग तथा सलोगन बनाकर घर पर रहकर सोशल मीडिया के माध्यम से समाज में जागरूकता अभियान चला रहे हैं। डॉ तरसेम कौशिक ने कहा कि विद्यार्थियों ने कोरोना महामारी के मद्देनजर अपनी जिमेदारी का पूर्णतयः निर्वहन किया है तथा समाज को जागरूक करने का प्रयास किया है कि हम कोरोना संक्रमण की श्रृंखला को लॉक डाउन का पूर्ण रूप से पालन करते हुए ही तोड़ सकते है। डॉ कौशिक ने बताया कि इन कृतियों के माध्यम से राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय हथीरा की छात्रा आरती, सिरसमा गाँव के विद्यार्थियों माधव, सक्षम, सार्थक, ध्रुव कौशिक व सिद्धि इत्यादि ने कोरोना वायरस से लड़ने की अपनी प्रतिबद्धता प्रदर्शित की है।

डॉ तरसेम कौशिक ने कहा कि बच्चों के इन प्रयासों से हमें प्रेरणा लेनी होगी कि हम व्यर्थ में सड़कों पर न घूमें तथा नोवेल कोरोना वायरस(कोविड 19) से बचने के लिए मास्क का उपयोग करें, अपने मुँह, नाक को छूने से बचें व स्वच्छता का ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि एकांतवास में रहकर ही हम कोरोना को हरा पाएंगें क्योंकि कोरोना अत्यंत स्वाभिमानी और आत्मसम्मान से समृद्ध वायरस है, यह तभी आपके घर आएगा, जब आप इसे खुद बाहर लेने जाएंगे।

 

 

 

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।