लॉकडाउन-3 के साथ कुरुक्षेत्र की पंजाब के साथ लगती सीमाओं का सुरक्षा कवच किया मजबूत
May 2nd, 2020 | Post by :- | 145 Views
कुरुक्षेत्र, ( सुरेशपाल सिंहमार )    ।   कोरोना वायरस की चुनौती से निपटने और लॉकडाउन-3 को सफल बनाने के लिए कुरुक्षेत्र की सभी सीमाओं खासकर पंजाब के साथ लगती सीमाओं के सुरक्षा कवच को ओर मजबूत कर दिया है। इस वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए पंजाब की सीमा से सटे कुरुक्षेत्र जिले के गांवों में आने-जाने पर पूर्ण रूप से पाबंदी है। अहम पहलू यह है कि उपायुक्त धीरेन्द्र खडगटा और पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी कुरुक्षेत्र जिले की तमाम गतिविधियों पर पैनी निगाहे रखे हुए है।
.
जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह अलर्ट है। प्रशासन की ओर अब पंजाब से सटे गांवों पर फोकस किया जा रहा है, क्योंकि पंजाब में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। लिहाजा इसी को देखते हुए प्रशासन ने एतियात के तौर पर पंजाब सीमा से सटे जिले के दर्जनों गांवों में पहरा बढ़ा दिया है। गांवों के रास्ते से किसी भी पंजाब से आने की अनुमति नहीं है और न ही पंजाब में जाने दिया जा रहा है। इसके लिए बकायदा सरपंचों को कड़ी हिदायत जारी गई हैं कि पंजाब जाने वाले रास्तों पर ठीकरी पहरा या फिर अन्य सुरक्षा बंदोबस्त किए जाएं ताकि किसी भी अनजान व्यक्ति का प्रवेश न हो सके। पंजाब सीमा से जिले के दर्जनों गांव लगते हैं, इनमें पिहोवा उपमंडल और इस्माईलाबाद खंड के जखवाला, तंगौली, मडाडो, ठोल, चम्मू, अधोया, जलबेड़ा सहित कई अन्य गांवों शामिल हैं। इन गांवों के रास्ते से पंजाब में आना-जाना लगा रहता है। पंजाब में बढ़ रहे मामलों को देखते हुए प्रशासन की ओर से इन क्षेत्रों में सुरक्षा बढ़ाई गई है।
.
उपायुक्त धीरेंद्र खडगटा का कहना है कि पंजाब के साथ लगते गांवों में पुलिस गश्त कर रही है तो ग्राम पंचायतों की ओर से भी सुरक्षा बढ़ाई गई है। यही नहीं खेतों से आने वाले कच्चे रास्ते भी पूरी तरह सील कर दिए गए हैं ताकि पंजाब से कोई भी व्यक्ति जिले की सीमा में प्रवेश न कर सके। यदि कोई व्यक्ति पंजाब से किसी गांव में प्रवेश करता है तो संबंधित गांव के सरपंच के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। यदि कोई अनजान व्यक्ति किसी गांव में प्रवेश करता है तो तुरंत उसकी सूचना प्रशासन को दी जाएगी। यह जिम्मेवारी ग्राम सचिव, नंबरदार व चौकीदार की भी बनती है। तीसरे चरण के लॉकडाउन में सरकार की हिदायतों के अनुसार ही छूट दी जाएगी। पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी का कहना है कि कुरुक्षेत्र जिले की सभी सीमाओं पर पुलिस का पहरा सख्त कर दिया गया है और आने-जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति पर नजर रखी जा रही है।
फोटो कैप्शन-फोटो नम्बर 1 से 3
.
ट्रक चालक व सब्जी बेचने वालों का होगा मेडिकल चैकअप
उपायुक्त धीरेन्द्र खडगटा ने सभी एसडीएम व एसएमओ को आदेश दिए है कि राज्य सरकार के आदेशानुसार हरियाणा में लॉकडाउन के दौरान विभिन्न क्षेत्रों से सब्जी की आपूर्ति विभिन्न मंडियों विभिन्न ट्रक चालकों व अन्य सब्जी बेचने वालों को कोराना वायरस से संक्रमित होने की आशंका बनी रहती है, जिससे अन्य लोगों के भी संक्रमित होने का अंदेशा बना रहता है। इसलिए सभी को निर्देश दिए जाते है कि जिला में स्थित सभी सब्जी मंडियों में आने वाले ट्रक चालकों व अन्य सब्जी बेचने वालों का सम्बन्धित क्षेत्र के एसएमओ के मार्फत मेडिकल चैकअप करवाना सुनिश्चित किया जाए।
.
सभी पेईंग गेस्ट का निरीक्षण करने के दिए आदेश
उपायुक्त ने पुलिस अधीक्षक, नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी व सभी नगर पालिकाओं के सचिव को आदेश दिए है कि राज्य सरकार के आदेशानुसार हरियाणा में लॉकडाउन के दौरान जिले में स्थित सभी पेईंग गेस्टों का निरीक्षण किया जाए ताकि किसी भी पेईंग गेस्ट में किसी प्रकार के खाने की कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। यदि किसी पेईंग गेस्ट को किसी प्रकार के खाने की समस्या हो तो उक्त पेईंग गेस्ट को अवगत करवाना सुनिश्चित करे कि वह ई-मार्किट कुरुक्षेत्र मोबाईल एप पर आनलाईन खाना प्राप्त कर सकते है। इतना ही नहीं पेईंग गेस्ट में सोशल डिस्टेंस के नियमों की भी पालना की जाए।
.
एमएसएमई यूनिट को दी जाएगी रियायत
उपायुक्त धीरेन्द्र खडगटा ने कहा कि कुरुक्षेत्र में 15 मार्च 2020 को जो एमएसएमई यूनिट कार्यरत है और उसने कर्मचारियों के वेजिज (अधिकतम प्रति कर्मचारी 20 हजार रुपए) का भुगतान करने के लिए लोन लिया है, उस संस्था को 6 महीने के लिए बैंक को भुगतान किए गए ब्याज का एक लिमिट तक ब्याज का लाभ दिया जाएगा। यह ब्याज अधिकतम 8 प्रतिशत वार्षिक या फिर द्वारा वास्तविक रुप में लिए जा रहे है ब्याज दर, दोनों में से जो कम होगा वह लगाया जाएगा। इसके लिए कुछ शर्ते भी निर्धारित की गर्ई है।
.
एक्सचेंज कार्यक्रम के तहत दूसरे प्रदेशों में गए नवोदय विद्यालय के विद्यार्थियों को बुलाने के लिए नियम किए तय
उपायुक्त ने कहा कि राज्य सरकार के आदेशानुसर नवोदय विद्यालय में हरियाणा राज्य के जो विद्यार्थी दूसरे राज्यों में दूसरे राज्यों के विद्यार्थी एक्सचेंज कार्यक्रम के तहत नवोदय स्कूलों में है, उनको लाने, ले जाने के लिए सरकार ने अनुमति दे दी है। लेकिन इसके लिए राज्य सरकार द्वारा जारी स्टेंडर्ड आप्रेटिंग प्रोसिजर की पालना करनी होगी।
.
यात्रियों, श्रमिकों, पर्यटकों और विद्यार्थियों को नियमानुसार भेजा जाएगा दूसरे राज्यों में
उपायुक्त एवं जिलाधीश धीरेन्द्र खडगटा ने कहा कि हरियाणा गृह विभाग के सचिव टीएल सत्यप्रकाश को राज्य नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। यह अधिकारी से एक राज्य से यूटी या फिर दूसरे राज्यों में लोगों की मुवमेंट पर नजर रखेंगे। सरकार के आदेशानुसार लॉकडाउन के कारण जितने भी श्रमिक, यात्री, श्रृद्घालु, विद्यार्थी या फिर अन्य व्यक्ति जो अपने राज्यों में जाना चाहते है, इस प्रकार के लोगों के लिए दूसरें राज्यों से सम्पर्क करना होगा ताकि आपसी सहमति से लोगों को भेजा जा सके। इसके लिए जाने वाले लोगों की पूर्णत: स्क्रीनिंग की जाए। इसके लिए बसों का प्रयोग किया जाएगा और बसों को पहले सेनिटाईज किया जाएगा और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की पालना करनी होगी। जो लोग दूसरे राज्यों में जाएंगे या फिर आएंगे, उन्हें नियमानुसार घरों में क्वांरटाईन किया जाएगा और सभी को आरोग्य सेतू एप डाउनलोड करने के प्रति भी जागरुक किया जाए।
.
ट्रांसपोर्ट विभाग द्वारा जारी परमिट ही होगा मान्य
उपायुक्त धीरेन्द्र खडगटा ने कहा कि राज्य सरकार के आदेशानुसार बसों की इंटर स्टेट मुवमेंट के लिए ट्रांसपोर्ट विभाग की तरफ से परमिट जारी किया जाएगा। यह परमिट ही वाहनों, ड्राईवरों और स्टाफ के लिए मान्य होगा और इसके कोई अतिरिक्त परमिट जारी नहीं किया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।