शराब ठेकों को फिर खोलने की उठ रही मांग
May 2nd, 2020 | Post by :- | 54 Views

जयपुर(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । लॉकडाउन के कारण लगभग एक महीने से बंद पड़े शराब ठेकों को फिर खोलने की मांग उठ रही है। दो विधायकों के साथ साथ भाजपा के एक पूर्व विधायक भी शामिल हैं। अगर कोरोना वायरस शराब या एल्कोहल से हाथ धोने से साफ हो सकता है तो पीने वाले के गले से वायरस भी साफ होगा। उन्होंने इस बारे में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को लिखे पत्र में यह बात कही है।लोग अब अवैध‘हथकढ़ शराब’की ओर जा रहे हैं। हलैना गांव में हाल ही में कथित हथकढ़ शराब पीने के बाद दो युवकों की मौत का हवाला देते हुए कहा। राज्य सरकार ने 2020-21 में आबकारी मद से 12500 करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है वह कैसे पूरा होगा। इन सभी बातों को केंद्र में रखकर ही उन्होंने शराब के ठेके खोलने की मांग रखी और मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। राज्य सरकार ने 22 मार्च से लॉकडाउन कर दिया था और तभी से राज्य में शराब की दुकानें भी बंद हैं। इससे पहले भादरा से माकपा विधायक ने भी इस बारे में मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था। कि लॉकडाउन के कारण शराब की बिक्री बंद होने से जहां राजस्व नुकसान हो रहा है। वहीं अवैध शराब व स्प्रिट की बिक्री बढ़ रही है। इससे विशेषकर गरीब मजदूर तबके की सेहत से खिलवाड़ हो रहा है। अवैध शराब बिकना शुरू हो गयी है। शराब माफिया पनप रहा है जिसको ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार को नियमों के तहत शराब की बिक्री शुरू करनी चाहिए।
भाजपा के पूर्व विधायक भवानी सिंह राजावत ने भी ठेके खोलने का समर्थन किया है। उन्होंने कहा,अभी कोई तथ्य सामने नहीं आया है कि शराब पीने से कोरोना वायरस फैलता है। अभी तक जो संक्रमण से मौत हुईं उनमें से 80 प्रतिशत तो ऐसे हैं जिन्होंने कभी शराब को हाथ भी नहीं लगाया।
राजावत के अनुसार फिर सरकार का राजस्व लक्ष्य भी है। वह भी पूरा नहीं होगा। उन्होंने कहा कि पान,बीड़ी,सिगरेट, गुटका,तंबाकू पर प्रतिबंध जारी रहना चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।