हसनपुर खण्ड शिक्षा अधिकारी ज्ञान सिंह हुए सेवानिवृत|
April 30th, 2020 | Post by :- | 518 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-  सेवानिवृत कहना वैसे तो सही शब्द नहीं है लेकिन अगर हरियाणा शिक्षा सेवा नियम 2016 की बात करें तो हरियाणा सरकार का कोई भी कर्मचारी 58 वर्ष आयु होने पर सरकारी सेवा से निवृत होकर सामाजिक जीवन की शुरुआत करता है तो सेवानिवृत हो जाता है । ऐसे ही आज पलवल जिले के खण्ड हसनपुर के खण्ड शिक्षा अधिकारी, ज्ञान सिंह तेवतिया जी आज अपने जीवन की 33 वर्ष 2 महीने एवम 16 दिन की सरकारी कार्यकाल पूर्ण होने उपरांत सेवानिवृत हुए । अगर ज्ञान सिंह जी की बात करें तो इनके बारे में हम आपको अवगत कराना चाहते हैं कि वे सादगी एवम कर्तव्यनिष्ठा की एक जीती जागती मिशाल हैं ।

ज्ञान सिंह ने प्रथम एडहॉक बेसिस पर 14 फरबरी 1987 को रा०व० मा०विद्यालय औरंगाबाद में अंग्रेज़ी, प्रवक्ता के पद पर कार्यभार ग्रहण किया उसके 31 मार्च 1990 तक रा०व० मा०विद्यालय तिकोना पार्क में एडहॉक बेसिस पर रहे एवम 1 जनवरी 1991 को रा०व० मा०विद्यालय तिकोना पार्क में ही नियमित अंग्रेज़ी प्रवक्ता के रूप में कार्यभार ग्रहण किया , उसके बाद रा०व० मा०विद्यालय हसनपुर में भी प्रवक्ता के रूप में कार्य किया । ज्ञान सिंह इसके बाद नवंबर 2007 में रा०व० मा०विद्यालय मलाई में प्राध्यापक के रूप में विभाग द्वारा पदोन्नति की गई । ज्ञान सिंह जी इसके बाद लगभग 10 वर्ष तक रा०व० मा०विद्यालय हसनपुर में प्राध्यापक के रूप में विभाग द्वारा स्थानांतरित कर दिए गए । इसके उपरांत ज्ञान सिंह को विभाग द्वारा रा०व० मा०विद्यालय खाम्बी में प्राध्यापक के रूप में स्थानांतरित कर दिया गया एवम लगभग 2 वर्ष तक खण्ड शिक्षा अधिकारी, हसनपुर का अतिरिक्त कार्यभार दिया गया।

ज्ञान सिंह की कर्तव्यनिष्ठा की बात करें तो खण्ड कार्यालय में हमेशा समय के पायबंद रहे , खण्ड कार्यालय द्वारा प्राप्त सूचना की मानें तो ऐसे अधिकारी सादगी, संयम, सहनशीलता एवम कर्तव्यनिष्ठता के उदाहरण हैं एवम हर कर्मचारी के लिए एक प्रेरणास्त्रोत हैं । ज्ञान सिंह की कार्यशैली के वरिष्ठ अधिकारी भी मुरीद हैं अगर उपलब्धि की बात करें तो ज्ञान सिंह के खण्ड शिक्षा अधिकारी हसनपुर के रूप में खण्ड को दो बार हरियाणा सरकार द्वारा सक्षम खण्ड घोषित किया गया है । ज्ञान सिंह को हरियाणा सरकार द्वारा सक्षम खण्ड घोषित होने पर पिछले वर्ष हरियाणा सरकार एवम विभाग द्वारा जटायु पर्यटन केंद्र पंचकूला में सम्मानित किया गया था । ऐसी शख्सियत को आज खण्ड कार्यालय हसनपुर से सेवानिवृत्त किया गया वह भी पूरी सादगी के साथ एवम सोशल डिस्टेंडिंग का विशेष ध्यान रखा गया। ऐसे अधिकारी सदैव एक आदर्श व्यक्तित्व के रूप में याद रखे जाते हैं। कुलदीप पालीवाल के सौजन्य से||

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।